इन सीटों पर खेल बिगाड़ेंगे बागी उम्मीदवार

  • 24 Oct 2017

विवेक अविनाशी।। हिमाचल प्रदेश की 13वीं विधानसभा के लिए आगामी चुनावों में दोनों दल कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी के लिए बागी उम्मीदवार मुसीबत खड़ी कर सकते हैं। सोमवार को नामांकन पत्र भरने की अंतिम तारीख के बाद जिस तरह दोनों पार्टियों के टिकट के दावेदार प्रत्याशियों ने निर्दलीय नामांकन-पत्र भरे हैं, उनसे यह साफ संकेत मिलता है कि बागी उम्मीदवार पीछे हटने वाले नहीं  हैं।

प्रदेश में निर्दलीय सहित 476 उम्मीदवारों ने नामांकन -पत्र भरे हैं। इनमें से प्रदेश के सबसे बड़े ज़िला कांगड़ा में 119 नामांकन पत्र भरे गए। टिकट आवंटन पर रोष का हाई वोल्टेज ड्रामा ठियोग और पालमपुर में हुआ । ठियोग में 89 वर्षीय कांग्रेस की कद्दावर नेता विद्या स्टोक्स ने हाई कमांड द्वारा उनके चहेते उम्मीदवार को टिकट ना देने पर रोषसरूप अपना नामांकन भर दिया और वहां से कांग्रेस हाई कमांड को विद्या स्टोक्स की उम्मीदवारी पर मोहर लगानी पड़ी। हालांकि, अब आयोग की तरफ से स्टोक्स की उम्मीदवारी रद्द है।

कांग्रेस पार्टी और भारतीय जनता पार्टी में टिकट न मिलने के कारण बगावत पर उतरे प्रत्याशियों ने निर्दलीय नामांकन पत्र भर कर यह सिद्ध कर दिया है कि दोनों ही पार्टियों में बगावत पर पूरी तरह से नियंत्रण नही हो पाया है l मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने सोमवार एक बयान देकर बागी प्रत्याशियों को पार्टी की ओर से कड़ी अनुशासनात्मक कार्रवाई की चेतावनी दी है वहीं दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी के प्रमुख नेता बागियों को शांत करने के लिए अपनी रणनीति पर विचार मंथन कर रहे हैं । पार्टी के प्रमुख नेता भूत पूर्व मुख्यमंत्री प्रेमकुमार धूमल ने तो इस मुसीबत को टालने के लिए सोमवार को ही एक सम्बोधन में पार्टी कार्यकर्ताओं और वोटरों को नसीयत दी कि वे पार्टी उम्मीदवार की ओर ध्यान न दे कर केवल कमल के निशान पर ही ध्यान केंद्रित करें और पार्टी को विजयी बनाएं। भारतीय जनता पार्टी में इस कार्य के लिए केन्द्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत , जे.पी. नड्डा, प्रेम कुमार धूमल , प्रदेश प्रभारी मंगल पाण्डेय , अनुराग ठाकुर आदि ज़ी-तोड़ कोशिश कर रहे हैं।

नामांकन पत्र भरने की आखिरी तारीख समाप्त हो गयी है और 26 अक्तूबर तक नाम वापिस लिए जा सकते हैं । चुनाव के इस महा-संग्राम में कितने बागी हिस्सा लेंगे यह तो 26 अक्तूबर के बाद ही पता लगेगा लेकिन कुछ विधान सभा क्षेत्रों में दोनों पार्टियों के बागी उम्मीदवारों का चुनाव लड़ना निश्चित लगता है। प्रदेश की मनाली विधान सभा क्षेत्र में भुवनेश्वर गौड़ और धर्मवीर धामी कांग्रेस पार्टी की टिकट के इच्छुक थे लेकिन इन दोनों को टिकट की दौड़ से बाहर करके राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश संयोजक हरि चंद शर्मा को कांग्रेस का प्रत्याशी घोषित किया गया है। इसके विरोध में धर्मवीर धामी ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में नामांकन -पत्र भरा है। यदि धामी चुनाव लड़ते हैं तो इसका सीधा लाभ भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार गोविन्द ठाकुर को होगा। शिमला जिला के रामपुर विधान सभा क्षेत्र से भी कांग्रेस पार्टी के निष्ठावान नेता और कभी वीरभद्र सिंह के खासमखास रहे सिंघी राम ने भी टिकट न मिलने पर निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में नामांकन पत्र भरा है l यदि सिंघीराम ने चुनाव लड़ा तो रामपुर विधान सभा क्षेत्र में भी राजनैतिक समीकरण बदल सकते हैं ।

उधर दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी भी पूरी तरह बगावत रोकने में असफल रही है। नड्डा के गृह-जिला बिलासपुर में यद्दपि बगावत पर अंकुश लग गया है लेकिन शिमला , कांगड़ा और चंबा में पार्टी अभी तक बगावत को पूरी तरह रोक नही पायी है। जिला शिमला की कुसुम्पटी विधान सभा क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी का टिकट न मिलने के रोष में वीरभद्र सिंह की पत्नी के भाई पृथ्वी विक्रम सेन ने पार्टी द्वारा अनदेखी के फलस्वरूप निर्दलीय के रूप नामांकन पत्र भरा है। चंबा में भी स्थिति कुछ ऐसी ही है। वर्तमान विधायक वी.के. चौहान ने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप नामांकन भरा है । जिला कांगड़ा के पालमपुर में बीजेपी टिकट के प्रबल दावेदार प्रवीण शर्मा को टिकट ना मिलने पर उन्होंने भी निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ने का निर्णय लिया है। दोनों राष्ट्रीय दलों में बगावत का यह सिलसिला घातक सिद्ध हो सकता है। आगामी दो दिनों में यदि इन बागी उम्मीदवारों को मनाया नही गया तो कांग्रेस और बीजेपी दोनों के लिए मुसीबत हो सकती है।

(विवेक अविनाशी वरिष्ठ स्तंभकार हैं. हिमाचल प्रदेश की राजनीति पर लंबे समय से टिप्पणी करते आ रहे हैं.)