शिमला का नाम बदलने पर वीरभद्र की दो टूक, सरकार को दी वॉर्निंग

  • 22 Oct 2018
  • Reporter: पी. चंद, शिमला

शिमला का नाम श्यामला रखने पर पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने भी सरकार पर रोष जाहिर किया है। शिमला में वीरभद्र सिंह ने साफ लह़जे में कहा कि शिमला के नाम का अपना ऐतिहासिक महत्व है। इसलिए यदि नाम बदलने की बात सामने आई तो इसका पुरजोर विरोध होगा। ये ग़लत एजेंडा है और सरकार इसको राजनीतिक मुद्दा बना रही है।

लगे हाथ वीरभद्र सिंह ने जयराम सरकार पर भी तंज कस डाला औऱ कहा कि सरकार जयराम ठाकुर नहीं, बल्कि संघ और नड्डा के दबाव में चल रही है। सरकार जनता के काम के लिए होती है, लेकिन बीजेपी की सरकार सिर्फ भाजपाइयों के लिए ही है। जनता का कोई भी काम नहीं हो रहा और सिर्फ बीजेपी के लोग अपने काम करवा रहे हैं। बीजेपी का कोई भी नेता जनता की सूध तक नहीं ले रहा है।

सुक्खू पर कसा तंज

अपना उदाहरण देते हुए वीरभद्र सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष सुक्खू पर भी चुटकी ली। उन्होंने कहा कि जनता के काम के लिए मैं सिर्फ लोगों से इंटरेक्ट करता हूं, न की संगठन से। जनता ने उन्हें लीडिंग दी है और वे उस जनता के लिए काम करते हैं। रही लोकसभा चुनावों की बात तो संगठन की मजबूती सुक्खू का काम है जब उनकी जरूरत प्रचार में होगी वह कूद जाएंगे।