CM जयराम ने मंडी को सौंपा 90 करोड़ का प्रोजेक्ट, सहकारिता के क्षेत्र में होगा नया संचार

  • 18 Nov 2018
  • Reporter: पी. चंद, शिमला

मंडी जिला में सहकारिता क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए 90 करोड़ के प्रोजैक्ट को मंजूर किया गया है, जिसका विधिवत शुभारंभ शनिवार को सीएम जयराम ठाकुर ने चक्कर में किया। यहां पर 65वें अखिल भारतीय सहकारी सप्ताह के तहत राज्य स्तरीय समारोह का आयोजन किया गया था जिसमें मुख्यमंत्री ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की और द्वीप प्रज्वलित करके कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

इस दौरान उन्होंने जिला के लिए 90 करोड़ की आईसीडीपी यानी एकीकृत सहकारी विकास परियोजना का भी विधिवत शुभारंभ किया। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 4486 सहकारी सभाएं कार्यरत हैं और इनके साथ 17 लाख 20 हजार लोग जुड़े हुए हैं। इनका 332 करोड़ का शेयर इसमें शामिल है और 34,408 करोड़ की कार्यशील पूंजी है।

सहकारिता में काफी पीछे चला गया प्रदेश

उन्होंने कहा कि देश में सबसे पहले प्रदेश से सहकारिता की शुरूआत हुई थी। ऊना जिला के पंजावर गांव में पहली सहकारी सभा का गठन वर्ष 1892 में हुआ था लेकिन जिन राज्यों में सहकारिता बाद में शुरू हुई वह काफी आगे निकल चुके हैं जबकि प्रदेश इसमें काफी पीछे चला गया है। उन्होंने उम्मीद जताई कि जो नया प्रोजैक्ट जिला के लिए मंजूर हुआ है उससे सहकारिता के क्षेत्र में नया संचार होगा और अधिक से अधिक लोग इसमें जुड़कर स्वरोजगार की तरफ आगे बढ़ेंगे।

मिल्क प्लांट चक्कर का 33 करोड़ से होगा जीर्णोद्धार

उन्होंने मिल्क प्लांट चक्कर के जीर्णोद्धार के लिए 33 करोड़ का एक और प्रोजैक्ट मंजूर होने की बात भी कही। उन्होंने बताया कि वर्ष 1971 में इंडो-जर्मन प्रोजैक्ट के तहत इस प्लांट को स्थापित किया गया था और उस वक्त इसकी क्षमता 10 हजार लीटर की थी। वर्ष 1998 में इसकी क्षमता 20 हजार लीटर की गई। अब इस प्लांट का आधुनिकीकरण होगा तो इसकी क्षमता 40 हजार लीटर से भी अधिक हो जाएगी और यह प्लांट पूरी तरह से आधुनिक सुविधाओं से लैस होगा। उन्होंने कहा कि अब यहां अधिक गुणवत्ता वाले प्रोडक्ट बनेंगे और उससे प्लांट की आमदनी में इजाफा होगा।