आगजनी की घटनाओं को रोकने के लिए किया जाए बचाव दल का गठन: DC

  • 19 Nov 2018
  • Reporter: नवनीत बत्ता

सर्दियों का सीजन शुरू होते ही आगजनी की घटनाएं आने भी शुरू हो गई हैं। प्रदेश में हर रोज कहीं न कहीं आगजनी की घटनाएं सुनने को मिल रहीं हैं। एसे में सर्दियों में आगजनी और अन्य घटनाओं को रोकने की तैयारियों को लेकर सोमवार को उपायुक्त डा. ऋचा वर्मा की अध्यक्षता में हमीर भवन में बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में उपायुक्त ने एसडीएम को निर्देश देते हुए कहा कि वह अपने-अपने उपमंडल पर गृह रक्षक, पुलिस, विकास खंड अधिकारी, एनजीओ और क्षेत्र के तैराकों की सूची तैयार करके एक राहत और बचाव दल का गठन करें। जिससे किसी भी प्रकार की आपदा के समय बेहतर ढंग से निपटा जा सके। उन्होंने अधिकारियों को एेसी घटनाओं की सूचना तुरंत उनके कार्यालय में भेजने के भी निर्देश दिए।

ऋचा वर्मा ने घरेलू आगजनी की घटनाओं को नियंत्रित करने के लिए, अग्रिशमन तथा गृह रक्षा विभाग को ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक से अधिक जागरूकता शिविरों का आयोजन करने को कहा। उन्होंने कहा कि जिला में होने वाली ग्राम सभा की बैठकों में होम गार्ड विभाग के कर्मचारी लोगों को आग लगने के कारण तथा उस पर नियंत्रण के उपायों से अवगत करवाएं। अधिकतर घटनाएं जागरूकता के अभाव में होती हैं इसलिए लोगों को जागरूक करने के लिए संबंधित विभाग नियमित रूप से जागरूकता शिविरों का आयोजन करना सुनिश्चित करें।

उन्होंने कहा कि किसी भी आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए सभी विभागों के बीच बेहतर तालमेल, पर्याप्त संसाधन तथा आवश्यक दूरभाष तथा मोबाईल नंबर होने अति आवश्यक हैं। इसके लिए उन्होंने प्रत्येक विभाग के अधिकारी को विभागीय स्तर पर किसी भी प्रकार की आपदा से निपटने को लेकर बनाई गई संसाधन इनवेंटरी को एक सप्ताह के भीतर उनके कार्यालय में उपलब्ध करवाने के भी निर्देश दिए।
 
उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि किसी भी प्रकार का नुक्सान होने पर प्रभावित परिवार को तुरंत राहत राशि पहुंचाई जाए। ऐसे मामलों में प्राथमिकता के आधार पर कागजी प्रक्रिया को अपनाया जाए। उन्होंने विद्युत विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि ग्राम सभा की बैठकों में लोगों को अपने घरों में बिजली का मीटर लगाते समय अर्थ वाईरिंग की महता के बारे में बताएं ताकि शार्ट सर्किट के कारण आगजनी की घटनाएं कम से कम हों। लोगों को विशेषकर जहां नया भवन निर्माण कार्य हुआ है ,हर हालत में अर्थ वाईरिंग करवाना सुनिश्चित करें।