सरकार में संघ का दखल कितना सच, क्या बीजेपी कार्यकर्ता दरकिनार होकर चुपचाप देख रहे तमाशा?

  • 01 May 2018
  • Reporter: पी. चंद

कहते हैं कि सियासत में कब कहां क्या हो जाए पता ही नहीं चलता। सुजानपुर सीट से प्रेम कुमार धूमल क्या हारे हिमाचल की राजनीति ही पलट गई। बड़ी उम्मीदों के साथ प्रदेश को जनता और बीजेपी कार्यकर्ताओं ने दिल में बड़े अरमान लिए  मुख्यमंत्री के रूप में जय राम ठाकुर को स्वीकार तो कर लिया। लेकिन, अब बीजेपी कार्यकर्ता अपने आप को ठगे से महसूस करने लगे हैं। जो बीजेपी कार्यकर्ता पार्टी के लिए मरने मारने को तैयार थे आज वह कह रहे हैं कि उनकी सरकार में कोई नहीं सुन रहा है और उनके कोई काम नहीं हो रहे हैं। जो उम्मीदें उनको नई सरकार से थी वह टूटती नज़र आ रही हैं।

सरकार पर आरोप तो ये भी है कि यहां संघ हावी हो गया है। जब तक प्रेम कुमार धूमल मुख्यमंन्त्री रहे उन्होंने संघ को कभी अपने ऊपर हावी नही होने दिया। लेकिन, नई सरकार बनते ही सरकार पर भगवाकरण के आरोप लग रहे हैं। सियासी गलियारों में तो चर्चा ये भी है कि कांग्रेसी लोगों के ही काम हो रहे हैं जिन बीजेपी के लोगों ने दिन रात चुनावों में पसीना बहाया उनको कोई नहीं पूछ रहा है। बीजेपी खेमों में बंटती नज़र आ रही है। मुख्यमंत्री ने समय रहते यदि परिस्थितियों को नही संभाला तो हालात बिगड़ सकते हैं जिनका सीधा असर 2019 के चुनाव पर पड़ सकता है।

क्या नाचने वाले मुख्यमंत्री बनते जा रहे हैं जय राम ठाकुर, कौन नचा रहा है?

कुछ चापलूस लोग सचिवालय में लगातार मुख्यमंत्री को घेरे हुए हैं।  वैसे तो मुख्यमंत्री की छवि पर कोई सवाल नहीं उठा रहा है लेकिन, ये भी कोई नहीं कह रहा है कि मुख्यमंत्री बहुत अच्छा काम कर रहे हैं। क्योंकि पिछले चार माह में ऐसा कोई बड़ा फैसला अभी तक सरकार ने नहीं लिया है जिससे लगे कि सरकार जनता के लिए काम कर रही है।

अब तो लोग ये भी कहते हुए सुने जा रहे हैं कि जय राम ठाकुर नाचने वाले मुख्यमंत्री बनते जा रहे हैं जहां भी उन्हें मौका मिलता है नाचने से नहीं चूकते। अब उनको पार्टी के कौन-कौन नेता नचा रहे हैं चर्चाओं का बाजार ऐसी बातों को लेकर भी खूब गर्म है।