पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर केन्द्र पर हमला, अम्बानी को फ़ायदा पहुंचाने के लिए किया सौदा: पूर्व मंत्री कौल सिंह

  • 14 Sep 2018
  • Reporter: पी. चंद, शिमला

शिमला पूर्व मंत्री कौल सिंह ठाकुर आज अपने सिपहसालारों के साथ कांग्रेस कार्यालय राजीव भवन पहुंचे और केन्द्र सरकार पर रॉफेल डील को लेकर निशाना साधा। उन्होंने आरोप लगाया कि यूपीए सरकार की डील से मोदी सरकार ने रॉफेल की क़ीमत तीन गुणा कैसे बढ़ा दी। इस रॉफेल में ऐसा क्या नया लगाया गया कि इसकी क़ीमत बढ़ गई। अम्बानी को फ़ायदा पहुंचाने के लिए क्यों ऐसा किया गया।

केंद्र सरकार अभी तक इसपर सफ़ाई नही दे पाई है। 36 रॉफेल ख़रीद को लेकर केंद्र स्थिति साफ़ करे। बोफ़ोर्स के समय तो  बहुत हल्ला किया गया लेकिन सदी के सबसे बड़े रॉफेल घोटाले पर पीएम मोदी चुप क्यों है। एनडीए के सभी मंत्री अब मोदी को बचाने के लिए झूठ पर झूठ बोल रहे है। कांग्रेस मांग करती है कि इसकी जांच के लिए सयुंक्त संसदीय जांच कमेटी गठित की जाए।

पेट्रोल डीजल की कीमतें आसमान छू रही है। यूपीए सरकार के दौरान कच्चे तेल की कीमत 150 प्रति बैरल थी उस वक़्त मनमोहन सरकार ने अनुदान देकर तेल की कीमतें कम रखी। उस समय रिलायंस के पेट्रोल पंप बन्द हो गए थे। लेकिन आज 22वें दिन लगातर तेल की कीमतें बढ़ रही है। रसोई गैस लोगों की पहुंच से बाहर हो गए है। मोदी क्यों चुप है। केन्द्र तेल की कीमतें कम करे।

मोदी ने जनता के साथ बेरोज़गारी, आतंकवाद काले धन व मॅहगाई को लेकर वादाखिलाफी की है। विजय माल्या का केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली से बातचीत के बाबजूद विदेश क्यों भागने दिया गया। नीरव मोदी को देश से भागने का मौका क्यों दिया गया।

कौल सिंह ने जय राम ठाकुर सरकार में आपसी तालमेल की कमी की बात कही। उन्होंने बताया कि परिवहन मंत्री किराया बढ़ाने को लेकर  व्यान देते है जबकि मुख्यमंत्री वैट कम करने व किराया न बढ़ाने का अलग व्यान देते है। हिमाचल में कानून व्यवस्था पूरी तरह चरमरा चुकी है। अब भाजपा के ख़िलाफ़ कांग्रेस पार्टी मोर्चा खोलने जा रही है हर मुददे पर सरकार को घेरा जाएगा। वहीं कौल सिंह ठाकुर मंडी के लोकसभा से चुनाव लड़ने के सवाल पर बोले कि वह चुनाव लड़ने के पक्ष में नही है।