धर्मशाला में होने वाली इन्वेस्टर मीट नहीं बल्कि हिमाचल को बेचने का काम: आशा कुमारी

  • 09 Oct 2019
  • Reporter: मनोज धीमान

धर्मशाला पहुंची पंजाब प्रभारी आशा कुमारी ने जयराम सरकार पर जमकर निशाना साधा। आशा कुमारी ने कहा कि धर्मशाला में होने वाली इन्वेस्टर मीट नहीं बल्कि हिमाचल को बेचने का काम किया जा रहा । प्रदेश में डिसइनवेस्टमेंट हो रही है लेंड माफिया ओर बाहरी लोगों को लाभ पहुंचाने का काम हो रहा है। आशा ने कहा कि कांग्रेस किसी भी कीमत पर हिमाचल को बिकने नहीं देगी।
 
वहीं, आशा कुमारी ने कहा कि आज देश में बेरोजगारी चरम पर है। हिमाचल में बीजेपी सरकार हर तरफ फेल है। धर्मशाला की स्मार्ट सिटी 1000 करोड़ रुपये देने की योजना सरकार ने रखी थी। प्रदेश सरकार ने आय का कोई साधन नहीं बढ़ाया है। सरकार का ट्यूलिप गॉर्डन बनाने का प्लान था जो आज तक नहीं बन पाया। धर्मशाला में रोपवे का काम भी अधर में लटका पड़ा है।

आशा कुमारी ने कहा कि नगर निगम ने ये स्कीम सरकार को भेजी थी लेकिन कोई पास नहीं हुई। धर्मशाला को दूसरी राजधानी कांग्रेस ने बनाया था लेकिन बीजेपी सरकार इसके विकास की और कोई ध्यान नहीं दे रही है। वहीं, जिला चंबा से भी भाजपा भेदभाव कर रही है। नेशनल हाइवे कंडवाल ने मंडी तक 65 हजार करोड़ का निवेश होना था काम रुक पड़ा है।

वहीं, आशा कुमारी ने आउट सोर्स का ठीकरा प्रदेश सरकार के सिर पर फोड़ते हुए कहा कि आउटसोर्स कर्मियों को लेकर सरकार के पास न कोई नीति है और न ही नीयत । पेंशन स्कीम पर भी सरकार कुछ सोच नहीं रही है। आशा ने आरोप लगाते हुए कहा कि धर्मशाला में होने वाले उपचुनाव में धन बल का प्रयोग हो रहा है और सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग किया जा रहा है।