सोलन: CM ने कसौली में उपमंडलाधिकारी कार्यालय और परवाणु में उप-तहसील खोलने की घोषणा की

  • 02 Dec 2019
  • Reporter: पी.चंद

सोलन जिला के कसौली विधानसभा क्षेत्र के परवाणू स्थित दशहरा मैदान में विशाल जनसभा को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कसौली विधानसभा क्षेत्र में उपमंडलाधिकारी (नागरिक) कार्यालय स्थापित करने की घोषणा की। उन्होंने किसानों की सुविधा के लिए परवाणु में आधुनिक कृषि विपणन स्थापित करने और उप-तहसील खोलने की भी घोषणा की। मुख्यमंत्री ने बताया कि उन्होंने इस क्षेत्र के लिए 93 करोड़ रुपये की विकासात्मक परियोजनाओं की शिलान्यास तथा उद्घाटन किए जिससे पूरे विधानसभा क्षेत्र में विकास के अनेकों कार्य आरम्भ होंगे और जिसका फायदा आम आदमी को होगा।

उन्होंने कहा कि इन विकास कार्यों से क्षेत्र की सामाजिक, आर्थिक व्यवस्था भी सुदृढ़ होगी। उन्होंने राजकीय उच्च विद्यालय जाड़ली और सनावर को वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला में तथा माध्यमिक पाठशाला हिलाच को उच्च विद्यालय में स्तनोन्नत करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र धर्मपुर को 50 बिस्तरों वाले नागरिक अस्पताल में स्तरोन्नत करने की भी घोषणा की। उन्होंने दयोठी पशु औषधालय, आयुर्वेदिक अस्पताल गड़खल को 20 बिस्तरों वाले अस्पताल में स्तरोन्नत करने तथा भोजपुर की अस्थाई पुलिस पोस्ट को स्थाई पोस्ट में स्तरोन्नत करने और धर्मपुर से गड़खल के लिए मुद्रिका बस सेवा आरम्भ करने की घोषणा की।

इससे पहले, परवाणु आगमन पर क्षेत्र के लोगों ने मुख्यमंत्री का भव्य स्वागत किया। समारोह में विभिन्न राजनैतिक, सांस्कृतिक और सामाजिक संगठनों ने मुख्यमंत्री को सम्मानित किया। मुख्यमंत्री ने 124.30 लाख रुपये की लागत से निर्मित पट्टा बरौरी से हरिपुर सड़क तथा 82.38 लाख रुपये की लागत से निर्मित राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला भोजनगर की विज्ञान प्रयोगशाला का उद्घाटन किया।

मुख्यमंत्री ने 14.74 करोड़ रुपये की लागत से बरोटीवाला-मंदला-परवाणु सड़क, 4 करोड़ रुपये की लागत से भोजनगर-कलामलोग वाया नेरीकलां सड़क तथा 1.92 करोड़ रुपये की लागत से गड़यार से बुधो सड़क के स्तरोन्नत कार्य की आधारशिला रखी। उन्होंने 48 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाली परवाणु सीवरेज प्रणाली, 10.52 करोड़ रुपये की लागत से धर्मपुर के कांडा में बनने वाले औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, 54.32 लाख रुपये की लागत से धर्मपुर के बाजार के विस्तार तथा 10.48 करोड़ रुपये की लागत से परवाणु में अधोसंरचना विकास कार्यों की आधारशिलाएं रखी।