यहां फ्री में रहने-खाने के लिए जेल जाते हैं बुजुर्ग, 20 सालों में बढ़ी 3 गुना संख्या

  • 02 Feb 2019
  • Reporter: डेस्क

जापान में इन दिनों एक विचित्र समस्या चल रही है। यहां बुजुर्ग फ्री में रहने-खाने के लिए जेल जा रहे हैं। परिवार से बेरुखी झेलने वाले बुजुर्ग बार-बार अपराध करके जेल में दस्तक दे रहे हैं। इसके पीछे की वजह जेल में मिलने वाली आजादी और मुफ्त मेडिकल सुविधाएं हैं।

1997 में हर 20 अपराधियों में से एक 65 साल से ऊपर का होता था मगर अब हर पांच अपराधियों में एक बुजुर्ग शामिल है। जापान में पिछले 20 साल में 65 साल से अधिक उम्र के लोगों के जेल जाने की संख्या तीन गुना हो चुकी है। जापान की आबादी 12.68 करोड़ है जिनमें 65 साल से ऊपर के लोगों की आबादी साढ़े तीन करोड़ के लगभग है। दो साल पहले दोषी करार दिए गए बुजुर्गों की संख्या 2500 थी। आरामदायक जीवन के लिए बुजुर्ग बार-बार अपराध कर रहे और कई बुजुर्ग जो ठीक से चल भी नहीं पाते वह मुफ्त के खाने के लिए जेल जा रहे हैं।

हिरोशिमा के तोशियो तकाता का कहना हैं कि वह ऐसी जगह पर जाना चाहते थे जहां मुफ्त खाने-पीने का इंतजाम हो सके। इसलिए उन्होनें 62 साल की उम्र में जेल आने के लिए अपराध किया। कोर्ट ने उनकी उम्र को देखते हुए केवल एक साल की सजा दी। इसके बाद जेल जाने के लिए वह कई बार अपराध करते गए। 69 साल के तोशियो तकाता 8 साल से जेल में हैं। इसी तरह 70 साल की ओकुयाना कहती हैं कि उन्होनें चोरी की क्योंकि वह अपने पति के साथ नहीं रहना चाहती थी।
 
जेल में मिलती है यह सुविधाएं

स्वास्थ्य और टीवी जैसी कई सुविधाएं मौजूद रहने के कारण कई बुजुर्गों को घर से ज्यादा अब जेल का वातावरण अच्छा लगने लगा है। जापान की जेल में सुरक्षाकर्मी बुजुर्ग कैदियों की देखभाल करते हैं। वह बुजुर्ग कैदियों के डाइपर बदलने, नहलाने के साथ ही उन्हें टहलाने भी ले जाते हैं। जापान में हर पांचवा अपराधी बुजुर्ग है।