'अनिल शर्मा में थोड़ी भी नैतिकता बची है तो BJP की सदस्यता से दें इस्तीफा'

  • 13 Apr 2019
  • Reporter: पी. चंद, शिमला

प्रदेश बीजेपी महासचिव चंद्र मोहन ठाकुर ने कहा है कि अनिल शर्मा में अगर थोड़ी भी नैतिकता बची है तो उन्हें बीजेपी से इस्तीफा दे देना चाहिए। आधा कांग्रेसी और आधा बीजेपी का कंही का भी कोई भी अस्तित्व नहीं है। अनिल शर्मा ने बीजेपी की सदस्यता लेकर मंडी सदर से बीजेपी की बदौलत चुनाव जीता जिसके बाद बीजेपी सरकार ने अनिल शर्मा को सम्मान देते हुए ऊर्जा मंत्री का पद दिया। लेकिन अनिल शर्मा के बेटे कांग्रेस के टिकट पर सांसद का चुनाव लड़ रहे हैं। अनिल शर्मा को तय करना होगा कि या तो पूरी तरह से बीजेपी में रहे या कांग्रेस पार्टी में जाएं। बीजेपी अनिल शर्मा से इस्तीफे की मांग करती है।

चंद्र मोहन ने कहा कि पंडित सुखराम मंडी में अपनी लोकप्रियता की बात करते हैं तो अनिल शर्मा इस्तीफा देकर चुनाव लड़ें। जनता उनकी लोकप्रियता का जवाब दे देगी। बीजेपी महासचिव ने साफ शब्दों में कहा है कि अगर अनिल शर्मा बीजेपी की सदस्यता से इस्तीफा नहीं देते हैं तो उन्हें बीजेपी का विद्यायक होने के नाते मंडी में बीजेपी प्रत्याशी के पक्ष में प्रचार करना होगा। इसके बाद भी अगर अनिल शर्मा बीजेपी की सदस्यता से इस्तीफा नहीं देती है तो पार्टी उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई भी कर सकती है।

(आगे खबर के लिए विज्ञापन के नीचे स्क्रॉल करें)

वंही बीजेपी उपाध्यक्ष गणेश दत्त ने कहा कि अनिल शर्मा को बंद कमरे से अपने बेटे का प्रचार करने के बजाय बीजेपी की सदस्यता से इस्तीफा देकर खुले तौर पर प्रचार करना चाहिए। अनिल शर्मा के बेटे आश्रय शर्मा बीजेपी से टिकट की मांग कर रहे थे जिसे बीजेपी ने मना कर दिया क्योंकि बीजेपी परिवारवाद के बजाय संगठन के नियमों के अनुसार चलती है। इसलिए उन्हें टिकट नहीं दिया गया है। यह लोकसभा चुनाव राष्ट्रवाद और परिवारवाद के बीच की लड़ाई है।