हिमाचल में सुविधाओं के अभाव से लोगों को पानी और बिजली की समस्या

  • 25 May 2019
  • Reporter: नवनीत बत्ता

गर्मियों में अक्सर लोगों को पानी की समस्या को झेलना पड़ता है। कुछ लोग दूर-दराज से पानी भरकर अपने घर लाते हैं। हिमाचल में भी कई जगहों पर लोगों को पानी की समस्या से जूझना पड़ रहा है। जब सरकार बनने की बारी आई थी तब यह वादा किया गया था कि लोगों को बिजली और पानी दोंनों 24 घंटे मुहैया करवाई जाएगी। प्रदेश  में जयराम सरकार आते ही बिजली और पानी देने का वादा फेल होता नज़र आ रहा है।

आज भी कई गांव ऐसे हैं जहां पर महिलाएं पुरुष व स्कूली बच्चे दूर से पानी ढोकर अपना गुज़ारा कर रहे हैं। सिरमौर ज़िले की 3 पंचायतों  के अंतर्गत आने वाले 5 गांव ऐसे हैं जिनको कफी समय से दूर के कुएं का पानी भरकर घर ला रहे हैं। वहां की स्थिति ऐसी बन गई है कि स्कूल जाने से पहले लड़कियों को पहले पानी लाना पड़ता है। अधिकारियों और ठेकेदार की लापरवाही से सैकड़ों लोग, किसान कई वर्षों से पानी की समस्या से परेशान हैं। हम बात कर रहे हैं ग्राम पंचायत बनेत में  पेयजल योजना की जो लाखों रुपये से तैयार की गई लेकिन ग्रामीणों को आज भी पीने का पानी दूर के कुएं से लाना पड़ रहा है। विभाग ने ठेकेदार से मोटर और पंप फिट तो करवा दिए पर योजना शुरू करने में असफल नज़र आ रहे हैं।

आजकल गर्मी बढ़ना शुरु हो गई है जिसके साथ ही ग्रामीणों की पेयजल समस्या भी बढ़ रही है।  गांवों में तो ग्रामीण कुएं का पानी पीने को मजबूर हो चुके हैं। इसके लिए भी ग्रामीणों को कई किलोमीटर का सफर तय करना पड़ रहा है। हालात इतने खराब है कि पानी के लिए परिवार के सभी सदस्यों को मशक्कत करनी पडती है।

सुबह का खाना बनाने के लिए महिलायें पानी लाती है और बाकी जरुरतों के लिए पुरुषों को दिनभर पानी ढोना पडता है। बच्चे भी इस काम में उनका हाथ बंटाते हैं। ग्रामीणों ने कहा कि जिस ठेकेदार के पास कार्य दिया गया है वह सही ढंग से कार्य नहीं कर रहा है।  विभाग और नेताओं से कई बार गुहार लगाने के बावजूद भी समस्या ज्यों की त्यों बनी हुई है। अधिकारी व नेता इन दिनों अपने ऑफिसों में बैठकर ठंडी एसी की हवा खा रहे हैं जबकि इस भीषण गर्मी में यहां के लोग  बाहर पानी लेने जा रहे हैं। गांव के लोगों ने मोदी सरकार से अब आग्रह किया है कि जो ठेकेदार व अधिकारी कार्य करने में लापरवाही बरत रहा है उस पर सख्त कार्यवाही करें।

 जब इसके बारे में पानी विभाग के अधिकारियों से पूछा गया तो आईपीएच विभाग के अधिशासी अभियंता ने बताया कि इस समस्या का समाधान बिजली विभाग की लापरवाही के कारण हो रहा है। आईपीएच विभाग ने ठेकेदार से सारा कार्य पूरा करवा दिया है लेकिन वोल्टेज़ की कमी के कारण काफी समय से यह कार्य अधर में लटका हुआ है। यदि वोल्टेज़ पूरी मिल जाती है तो गांव के तीनों पंचायत को पानी पहुंचाया जाएगा। वहीं बिजली विभाग के उपमंडल अधिकारी ने बताया की हम आपस में दोनों विभागों के अधिकारी बैठकर इस समस्या का समाधान करने का पूरा प्रयत्न करेंगे हम पूरा आश्वासन देते हैं कि जो भी कोई कमी बची होगी उसे जल्द पूरा किया जाएगा।