ये आदतें बनाती हैं किडनी में स्टोन, बचाव के लिए धीरे-धीरे कर दें बंद

  • 24 Jul 2019
  • Reporter: समाचार फर्स्ट डेस्क

आज प्रत्येक व्यक्ति को स्टोन की समस्या का सामना रहा है। स्टोन किडनी और पित्ताशय में अधिकतर होती है। पित्ताशय में पथरी की शिकायतें बहुत कम सुनने को मिलती हैं, लेकिन किडनी स्टोन की शिकायत बहुत अधिक सुनने को मिलती है। किडनी शरीर का मुख्य अंग है जिसका काम खून साफ करना, अनावश्यक जहरीले पदार्थों को पेशाब द्वारा बाहर निकालना, अपशिष्ट उत्पादों को निकलना, अम्ल एवं क्षार का संतुलन बनाना, खून के दबाव पर नियंत्रण रखना, हड्डियों को मजबूती प्रदान करना है।

किडनी की पथरी खनिज और लवणों से बने कठोर पदार्थ होते हैं। किडनी की पथरी के कई कारण होते हैं और आपके मूत्र मार्ग के किसी भी हिस्से को प्रभावित कर सकते हैं। अक्सर पथरी का निर्माण तब होता है, जब पेशाब गाढ़ा हो जाता है, जिससे खनिज क्रिस्टलीय हो जाते हैं और एक साथ चिपक जाते हैं। आइए उन आदतों के बारे में बात करते हैं जिनसे किडनी स्टोन बनने का खतरा अधिक रहता है।

कम पानी पीना और पालक का अधिक सेवन करना

कुछ लोग दिनभर में बहुत कम पानी पीते हैं। कम पानी पीना किडनी की पथरी का सबसे बड़ा कारण है। एक्सपर्ट मानते हैं कि जो लोग रोजाना आठ से दस गिलास पानी नहीं पीते हैं, उनमें किडनी की पथरी की समस्या अधिक देखी जाती है। जब यूरिक एसिड, मूत्र के एक घटक को पतला करने के लिए पर्याप्त पानी नहीं होता है, तो मूत्र अधिक अम्लीय हो जाता है। मूत्र में अत्यधिक अम्लीय होने से गुर्दे की पथरी बन सकती है। इसके अलावा ऑक्सालेट से भरपूर चीजों जैसे पालक, जई का आटा और चोकरयुक्त अनाज का अधिक सेवन करने से भी किडनी पथरी का खतरा होता है। इसलिए पालक का कम सेवन करना चाहिए।

रेड मीट और शेलफिश

रेड मीट और शेलफिश शरीर में यूरिक एसिड बढ़ा सकते हैं। यह जोड़ों में इकट्ठा हो सकता है और गुर्दे में जा सकता है जिससे पथरी बन सकती है। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि पशु प्रोटीन आपके मूत्र के कैल्शियम स्तर को बढ़ाता है और साइट्रेट की मात्रा को कम करता है, जिससे दोनों ही पथरी बनाते हैं।

नमक और का अधिक सेवन करना
 
नमक का ज्यादा सेवन करना जो लोग नमक का अधिक मात्रा में सेवन करते हैं, उनकी किडनी फेल होने का खतरा होता हैं क्योंकि नमक में सोडियम किडनी की समस्याओं को बढ़ा देता है। नमक के और भी कई नुकसान हैं जिनमें हाइपरटेंशन की परेशानी हो सकती हैं। इसके अलावा जो लोग कॉफी का सोवन अधिक करतें हैं उनमें भी किडनी की स्टोन की शिकायत हो सकती है। कॉफी में मौजूद कैफीन किडनी को नुकसान पहुंचा सकती है। यही वजह है कि डॉक्टर दिन में सिर्फ एक या दो कॉफी पीने की सलाह देते हैं। इसमें कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जो सीधे किडनी पर प्रभाव डालते हैं।

पेशाब को देर तक रोकना

कभी-कभी काम करते हुए या किसी अन्य कारण से बहुत से लोग पेशाब को रोककर रखते हैं, ये किडनी के बहुत खतरनाक हो सकता है। जिससे आपको सिर्फ किडनी की पथरी ही नहीं बल्कि यूटीआई जैसी गंभीर समस्या भी हो सकती है। इसलिए पेशाब को ज्यादा देरतक न रोककर रखना चाहिए।

पूरी नींद न लेना

अगर कोई भी व्यक्ति कम नींद लेता है तो उसकी किडनी फेल होने का चांस बढ़ जाता है। हर दिन 7 से 8 घंटे की नींद बेहद जरूरी होती है। मोबाइल औत टीवी के बढ़ते इस्तेमाल से आजकल के युवा बहुत कम सो पाते हैं। यही वजह है कि बहुत कम उम्र में ही लोगों को किडनी से जुड़ीं समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

शराब का ज्यादा सेवन

शराब सेहत के लिए बहुत खतरनाक होती है। जो लोग प्रतिदिन अधिक मात्रा में शराब का सेवन करते हैं, उनकी किडनी पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। इससे किडनी खराब भी हो सकती है।