वन मंत्री ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का किया दौरा, अधिकारियों को जारी किए ये निर्देश

  • 13 Aug 2019
  • Reporter: समाचार फर्स्ट डेस्क

वन एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने पतलीकूहल थाना से लेकर कटराईं तक ब्यास नदी के किनारे रिहायशी क्षेत्रों का दौरा किया। हाल ही में इस क्षेत्र में बादल फटने की घटना, बारिश और बर्फ पिघलने के कारण नदी के जलस्तर में हुई बढ़ौतरी हुई है। जिस कारण ब्यास नदी के किनारे बसे लोगों और उनके बागीचों को खतरा उत्पन्न हो रहा है। मंत्री ने सभी घरों में जाकर लोगों से स्थिति का जायजा लिया और नुकसान का भी निरीक्षण किया। साथ ही उन्होंने संबंधित अधिकारियों को डंगों को मार्गों को शीघ्र दुरूस्त करने के निर्दश भी दिए। उन्होंने कहा कि जहां सड़क किनारे नुकसान हुआ है, इसकी तुरंत मुरम्मत की जाए ताकि लोगों को अपने उत्पादों को मण्डियों तक पहुंचाने में किसी प्रकार की असुविधा न हो।

इसके उपरांत उन्होंने बड़ाग्रां के समीप सुंदरी बाग क्षेत्र का भी दौरा किया जहां पर बीते दिनों बादल फटा था जिससे निचले क्षेत्रों को काफी नुकसान भी पहुंचा था। उन्होंने सुंदरी बाग क्षेत्र के लोगों से मिलकर उनकी समस्याओं को सुना और अधिकारियों को आवश्यक निर्देश जारी किए। उन्होंने कहा कि जिला में कुछ क्षेत्र काफी संवेदनशील हैं जो बरसात के दिनों प्रभावित होते हैं। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के अभियंताओं को सेब सीजन के दौरान सभी ग्रामीण सड़कों का समय-समय पर निरीक्षण करने और लोगों की मांग पर इनकी तुरंत से मुरम्मत करने को कहा।

गोविंद ठाकुर ने कहा कि अगस्त महीने में ब्यास नदी और इसकी उप-नदियां काफी उफान पर होती हैं। ऐसे में लोगों को सावधान रहने की आवश्यकता है। उन्होंने लोगों को स्वयं भी नदी किनारे न जाने और पर्यटकों को भी इस बारे में अवगत करवाने को कहा जिससे वह भी सतर्क हो सकें। उन्होंने कहा कि नदी में साहसिक गतिविधियों पर भी आजकल रोक है और नियमों की अवहेलना करने से जिंदगी खतरे में पड़ सकती है। इसलिए सभी लोग सहयोग करें।