बढ़ते अपराध और बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर कांग्रेस मुखर, करेगी विरोध प्रदर्शन

  • 08 Sep 2019
  • Reporter: सचिन शर्मा, मंडी

सुंदरनगर में बिगड़ती कानून व्यवस्था और बढ़ती अपराधिक घटनाओं को लेकर कांग्रेस मुखर हो गई है। पूर्व विधायक और एआईसीसी सदस्य सोहन लाल ठाकुर ने कहा कि सुंदरनगर में हुए अपराधिक मामलों पर जल्द पुलिस कार्रवाई नहीं हुई तो कांग्रेस सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन करेगी।

उन्होंने कहा कि सेरीकोठी में बलात्कार की पीडि़ता के साथ कांग्रेस पूरी तरह खड़ी हुई है और कार्रवाई नहीं हुई तो कांग्रेस थाने का घेराव भी करेगी। पूर्व विधायक सोहन लाल ठाकुर ने पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि सुंदरनगर में सेरी कोठी में महिला से बलात्कार के मामले को लेकर पुलिस द्वारा 3 दिन तक एफआईआर दर्ज नहीं की गई, जब ईमानदार पुलिस अधिकारी ने एफआईआर दर्ज की तो कार्रवाई करने वाले अधिकारी को इनाम में अब ट्रांसफर कर दिया गया है।

सोहन लाल ठाकुर ने कहा कि राजनीतिक दबाव के चलते सुंदर नगर में अपराधियों को संरक्षण प्राप्त है, जिसके चलते आए दिन इस तरह की घटनाएं अंजाम दी जा रही हैं। उन्होंने चिंता जताई कि सुंदरनगर में महिला से बलात्कार किया गया, लेकिन पुलिस द्वारा मामले को दबाने की कोशिश की गई है। सलापड़ में शिक्षिका के साथ  सरेआम छेड़छाड़ की गई, लेकिन पुलिस मामले में कोई कार्रवाई कर पाई है। वहीं डैहर में पुलिस चौकी के साथ ही भाजपा कार्यकर्ता के कब्जे से एसआईटी की टीम ने छापेमार कर एक के कर दो बार अवैध शराब का ज खीरारा बरामद किया है।

 राजनीतिक दबाव के चलते अपराधिक मामलों को दबा रही पुलिस

सोहन लाल ठाकुर ने पुलिस पर राजनीतिक दबाव के चलते अपराधिक मामलों को दबाने के गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि कानून व्यवस्था का बुरा हाल है, बलात्कार के मामले में नेता को बचाने के चक्कर में पुलिस ने 3 दिन तक एफआईआर दर्ज नहीं की, जब एफआईआरदर्ज की गई, मेडिकल और कोर्ट में बयान करवाए गए है, लेकिन कार्रवाई करने वाले उस अधिकारी के ऊपर गाज गिरी और उन्हें थाने से बदल दिया गया है।

उन्होंने कहा कि कोर्ट में गोपनीय रूप से पीडि़ता के दिए बयान को भी बिना कोर्ट द्वारा जारी किए अखबार के माध्यम से सार्वजनिक कर जनता को भ्रमित किया गया है।

उन्होंने कहा कि बयान सार्वजनिक करने में तेजी दिखाई, लेकिन अपराधी को अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि महिला पर भारी दबाव बनाया जा रहा है, यह निंदनीय है और लोकतंत्र में इस तरह की घटना को कोई स्थान प्राप्त नहीं है।

उन्होंने कहा कि राजनीतिक संरक्षण प्राप्त अपराधियों को बचाने वाले पुलिस अधिकारी को पदोन्नति दी जा रही है। थाने में एसएचओ के पद पर कार्यरत अधिकारी को सुंदरनगर में ही किसी थाने में डीएसपी के पद पर नियुक्त किया गया है यह भी अपने आप में बड़ा सवाल है।

कांग्रेस इस तरह की घटनाओं का कड़ा विरोध करती है और जल्द ही मामले में कड़ी कार्रवाई नहीं की गई तो कांग्रेस सड़कों पर उतर कर संघर्ष करेगी और पुलिस थाने को घेराव भी करेंगी।