काजा: विश्व के सबसे ऊंचे वाहन योग्य मार्ग पर साइकिल रैली का समापन

  • 17 Sep 2019
  • Reporter: पी. चंद

एनरूट स्पीति एमटीबी चैलेंज एंव हिमाचल प्रदेश पर्यटन निगम के सहयोग से साइकिल रैली का द्वितीय एडीशन का आयोजन किया गया। दो दिवसीय साइकिल रैली का समापन विश्व के सबसे उंचे गांव कौमिक में हुआ। कौमिक गांव समुद्र तल से 15हजार 27 फीट की उंचाई पर स्थित है।  समापन कार्यक्रम में एडीएम काजा ज्ञान सागर नेगी ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की। इसके साथ ही विश्ष्ठि अतिथि कौमिक गोम्पा के लामा नोबांग उपस्थित रहे। एनरूट स्पीति एमटीबी चैलेंज में प्रथम स्थान शिवेन ने हासिल किया । ताबो से कौमिक तक 65 किलोमीटर के रूट को शिवेन ने 3 घंटे 25 मिनट में पूरा किया। जबकि दूसरे स्थान रोहित रहे। रोहित ने रूट को 3 घंटे 26 मिनट में पूरा किया। वहीं तीसरे स्थान पर हुकुम रहे। हुकम ने अपनी रेस 3 घंटे 32 मिनट में पूरी की।

मुख्यातिथि एडीएम काजा ज्ञान सागर नेगी ने सभी विजेताओं को पुरस्कार देकर सम्मानित किया। इसके साथ ही इस मौके पर एडीएम ज्ञान सागर नेगी ने कहा कि इस तरह की साइकिल रैली का आयोजन करना चाहिए। ये अपने आप में रिकार्ड है कि विश्व के सबसे उंचे गांव में रैली का समापन हुआ। यहां के युवाओं को कार्य सराहनीय है। स्थानीय प्रशासन साईकिल रैली को और बढ़ावा देने के लिए हर प्रयास करेंगा। एडीएम ने आयोजनकर्ताओं से आहवान किया कि साइकिल को बढ़ावा देने के लिए प्राजेक्ट तैयार करें। प्रशासन हर संभव सहायता करेगा। अगले साल इस साईकिल रैली में प्रतिभागियों की संख्या इससे कही अधिक होनी चाहिए। इसके लिए अभी से एनरूट स्पीति की टीम को काम करना चाहिए।

वहीं, इस मौके पर  एनरूट स्पीति के अध्यक्ष छवांग तेंडिंग ने मुख्यतिथि का स्वागत किया और अपने भाषण में कहा कि साइकिल रैली का  दूसरा एडिशन इस वर्ष पूरा हो गया है। पिछले साल हमने इस रैली को शुरू करने का फैसला लिया था। अब धीरे धीरे इस रैली के प्रति स्थानीय  युवाओं के रूचि बढ़ रही है। इसके साथ ही  प्रदेश के अन्य देशों से भी प्रतिभागी इस रैली में हिस्सा लेने के लिए आने लगा है। हमारा लक्ष्य लाहुल स्पीति के युवाओं को राष्ट्रीय और अंतराट्रीय स्तर मंच मुहैया करवाना है। स्पीति पर्यटन की दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण है । इस साइकिल रैली के माध्यम से पर्यटकों को आर्कषित किया जा सकता है। स्पीति के युवाओं को स्टेमिना काफी अधिक होता है ऐसे में साइकिल रैली उनके लिए काफी मददगार साबित हो सकती है।

उन्होंने कहा कि स्थानीय प्रशासन के सहयोग से हम बेहतर परिणाम अगले साल देंगे। वहीं साइकिल रैली के विजेता शिवेन ने कहा कि पहली बार इस रैली में आकर काफी अच्छा लगा है । मैं जूनियर चैपियनशिप  में हिस्सा ले चुका हूं। यहां के स्थानीय प्रतिभागियों में काफी अच्छा स्टेमिना है। अगर उन्हें  अगर सही प्रशिक्षण दिया जाए तो बेहतर राईडर बन सकते है। वहीं प्रशासन भी साईकिल को प्रोत्साहित करें तो आने वाले समय में लाहुल स्पीति से कई राईडर राष्ट्रीय स्तर के निकल सकते है।  रैली में 11 प्रतिभागियों ने हिस्सा  लिया। इनमें रोहित, शिवेन, हुक्कम, नोरबू, ताशी, रिंगजि, टश्रिंग, अंकुष, सुंदर, पपू शामिल रहे।