अब एक फ़ोन कॉल से होगा हिमाचल के लोगों की समस्या का समाधान

  • 16 Sep 2019
  • Reporter: पी. चंद, शिमला

अब एक फ़ोन कॉल से प्रदेश के लोगों की समस्या और शिकायतों का समाधान हो जाएगा। प्रदेश की जयराम सरकार ने आम लोगों की शिकायतों के निवारण के लिए "मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन" शुरू कर दी है।जिसके माध्यम से एक आम आदमी भी अपनी बात सीधी मुख्यमंत्री तक पहुंचा सकेगा। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने शिमला के टूटीकंडी पार्किंग में स्थापित किये गए इस सुविधा के कॉल सेंटर से टोल फ्री नंबर 1100 का शुभारंभ कर इस सेवा को लोगों को समर्पित किया। मुख्यमंत्री द्वारा बजट 2019-20 में की गई घोषणा के अनुरूप इस सेवा को शुरू किया गया है।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश के लोगों को अब शिकायतों के निवारण के लिए विभागों के चक्कर काटने की जरूरत नहीं पड़ेगी। लोग सीधे ‘मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन’ पर कॉल कर अपनी समस्या या शिकायत रख सकते हैं। यह शिकायत सीधे संबंधित विभाग के पास भेजी जाएगी और विभाग को निर्धारित समय के अंदर शिकायत का समाधान करना होगा।लोग टॉल फ्री नंबर 1100 पर कल कर अपनी शिकायत दर्ज़ करवा सकते हैं। हेल्पलाइन पर आने वाली शिकायतों के निस्तारण के बाद समय-समय पर खुद मुख्यमंत्री और विभागीय मंत्री कभी भी किसी शिकायतकर्ता से बात कर गुणवत्ता की खुद जांच करते रहेंगे।

कॉल सेंटर में तैनात कर्मचारी लोगों द्वारा दर्ज़ करवाई गई शिकायतों को कम्प्यूटर में रिकॉर्ड करने के साथ-साथ संबंधित अधिकारियों और  विभाग को भेजेंगे। मुख्यमंत्री के सख्त निर्देशों के तहत अधिकारियों को शिकायतों का निपटारा समयबद्ध  करना होगा। ‘‘मुख्यमंत्री हेल्पलाइन’’ के माध्यम से जनमंच में प्राप्त शिकायतों की प्रगति की निगरानी भी की जाएगी। यह हेल्पलाइन सुबह 7 से रात 10 बजे तक क्रियाशील रहेगी। इससे सरकार के कार्य में भी पारदर्शिता सुनिश्चित होगी। मुख्यमंत्री ने सभी विभागों से आग्रह किया कि जनहित में शुरू की जा रही इस प्रणाली को सफल बनाने में सहयोग दें।

चार स्तरीय शिकायत प्रणाली का होगा प्रावधान

‘‘मुख्यमंत्री हेल्पलाइन’’ के साथ पंजीकृत कॉल को सिस्टम द्वारा स्वयं ही संबंधित विभाग को सौंपा जाएगा। इसमें चार स्तरीय शिकायत प्रणाली की योजना बनाई गई है। स्तर-1 पर खंड, स्तर-2 पर तहसील, स्तर-3 पर जिला और स्तर-4 पर राज्य है। सभी अधिकारियों को समयसीमा में शिकायत का निवारण करना होगा। यदि समय सीमा पार हो गई है या शिकायतकर्ता असंतुष्ट है तो समस्या अगले स्तर पर भेज दी जाएगी। शिकायतकर्ता की संतुष्टि के बाद ही शिकायत बंद होगी।