आज मनाया जा रहा शिक्षक दिवस

  • 04 Sep 2019
  • Reporter: रमित शर्मा

डॉ. राधाकृष्णन भारत के प्रथम उपराष्ट्रपति और दूसरे (1962- 1967) राष्ट्रपति थे। मद्रास के प्रेसीडेंसी कॉलेज से अध्यापन का कार्य शुरू करने वाले राधाकृष्णन आगे चलकर मैसूर विश्वविद्यालय में प्रोफेसर हुए और फिर देश के कई विश्वविद्यालयों में शिक्षण कार्य किया। 1939 से लेकर 1948 तक वह बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बी. एच. यू.) के कुलपति भी रहे। वे एक दर्शनशास्त्री, भारतीय संस्कृति के संवाहक और आस्थावान हिंदू विचारक थे। इस मशहूर शिक्षक के सम्मान में उनका जन्मदिन भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है।

इसलिए मनाते हैं टीचर्स डे

पांच सितंबर को पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती भी आयोजित होती है. उन्हीं की याद में हर साल 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है। इसके पीछे की कहानी ये है कि एक बार उनके कुछ विद्यार्थी और दोस्तों ने उनके जन्मदिन को सेलिब्रेट करने का मन बनाया। इस पर डॉ. सर्वपल्ली ने कहा कि मेरा जन्मदिन अलग से मनाने के बजाए अगर मेरा जन्मदिन शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाए तो मुझे गर्व महसूस होगा।

 शिक्षक दिवस मनाने के पीछे का महत्व

 डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन, जिनके नाम पर 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि उनके पिता कभी नहीं चाहते थे कि वह पढ़ाई करें। चूंकि सर्वपल्ली एक गरीब ब्राह्मण परिवार से ताल्लुक रखते थे, इसलिए उनके पिता चाहते थे कि वह एक मंदिर के पुजारी बन जाएं। भारत में, शिक्षक दिवस हर साल 5 सितंबर को समाज में शिक्षकों द्वारा निभाई जाने वाली भूमिका के रूप में मनाया जाता है। राधाकृष्णन भारत के राष्ट्रपति भी थे

हम शिक्षक दिवस क्यों मनाते हैं?

शिक्षक दिवस शिक्षकों के सम्मान में समर्पित एक दिन है। साथ ही छात्रों के जीवन में शिक्षकों के महत्व को स्वीकार करने और पहचानने के लिए दुनिया भर में हर साल मनाया जाता है। एक राष्ट्र के नागरिकों का भविष्य। इसलिए, शिक्षकों को समाज के सबसे महत्वपूर्ण हिस्सों में से एक माना जाता है। शिक्षक युवाओं के भविष्य को बनाने का काम करते हैं। भारत में यह 5 सितंबर को भारत के दूसरे राष्ट्रपति और भारत के प्रथम उपराष्ट्रपति, भारत रत्न डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती पर मनाया जाता है। हालांकि, कई देशों में 5 अक्टूबर को मनाए जाने वाले विश्व शिक्षक दिवस के साथ उनके इतिहास और स्थानीय महत्व के अनुसार देशों में तिथियां बदलती हैं

हम 5 सितंबर को शिक्षक दिवस क्यों मनाते हैं?

5 सितंबर को एक महान शिक्षक डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती है, जो शिक्षा के कट्टर विश्वासी थे और एक प्रसिद्ध राजनयिक, विद्वान, भारत के राष्ट्रपति और सबसे ऊपर, एक शिक्षक थे।


1965 में, स्वर्गीय डॉ. एस. राधाकृष्णन के कुछ प्रमुख छात्रों ने उस महान शिक्षक के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए एक सभा का आयोजन किया। उस सभा में डॉ. राधाकृष्णन ने अपने भाषण में कहा कि उनकी जयंती को भारत और बांग्लादेश के अन्य महान शिक्षकों को श्रद्धांजलि देकर शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाना चाहिए। वर्ष 5 सितंबर 1967 से लेकर आज तक शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है।