कोरोना के ख़तरे के बीच सदन की कार्यवाही अनिश्चित काल के लिए स्थगित

  • 23 Mar 2020
  • Reporter: पी. चंद

कोरोना के ख़तरे के बीच हिमाचल विधानसभा के बजट सत्र को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया है। सदन में 1973 नियम(16) के तहत संसदीय मंत्री सुरेश भारद्वाज ने प्रस्ताव लाया कि संसदीय नियमों के मुताबिक़ हिमाचल प्रदेश विधानसभा की कार्यवाही को अनिश्चित काल के लिए स्थगित किया जाए।

इस पर विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने अपनी सहमति जताते हुए कहा कि इस वैश्विक महामारी के चलते सदन को स्थगित किया जाना जरुरी है लेकिन 7 बैठकों को अगले मॉनसून सत्र औऱ शीतकालीन सत्र में जोड़ा जाएं, ताकि 35 बैठके पूरी हो सकें।

इस पर संसदीय मंत्री ने हामी भरी और विधानसभा अध्यक्ष विपिन परमार ने कहा कि जो भी काम लगे है उनको पास समझा जाए और बजट को भी पास समझा जाए। इनको गलिटेन द्वारा पास किया जाएगा। इस पर विपक्ष सहित समूचा सदन एक मत दिखा।

विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने मांग उठाई की कोरोना के ख़तरे को देखते हुए समूचे प्रदेश को लॉकडाउन किया जाए। सरकार ने बसें बन्द कर दी पर कर्मियों को छुट्टी नही की बड़ी मुश्किल से कर्मी दफ्तरों में पहुंचे। मज़दूरों, निज़ी कर्मियों व मनरेगा कर्मियों को दिहाड़ी एडवांस में दी जाए। विशेष पैकेज जारी किया जाए। राशन ,गैस और जरूर वस्तुओं की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। अस्पताल में ज़रूरी बंदोबस्त किए जाएं। टेस्ट मशीन बढ़ाई जाएं। सरकारी विभागों में भी लॉक डाउन किया जाए। ऐसा न हो देरी हो जाए। विपक्ष सरकार के साथ है।

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि कारोना पूरी दुनिया मे फैल चुका है। विश्व युद्ध में भी देश इस तरह प्रभावित नहीं हुए थे। लेकिन कोरोना हवाई यात्रा के माध्यम से ज़्यादा फैला। अब तक हिमाचल में भी 2 मामले पॉजिटिव पाएं गए है। विदेश से 1237 लोग हिमाचल आए जिनको निगरानी पर रखा गया। 28 दिन तक 426 को रखा गया वह अभ ठीक है। अब तक 57 की जांच की गई जिनमें 55 नेगटिव व 2 पॉजिटिव पाए गए। 667 होम आइसोलेशन में और 13 अस्पताल आइसोलेशन में है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जो इसमें सहयोग नहीं कर रहे है उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई की जा रही है। निज़ी कर्मी का कोई वेतन नहीं कटेगा। आआईजीएमसी और टांडा में प्रतिदिन 80 टेस्ट करने की सुविधा है। इसके अलावा मंडी और कसौली में टेस्ट की सुविधा केन्द्र से मांगी हैं। सरकार कर्मियों की छुट्टियों और अन्य सुविधाओं को सुनिश्चित करवाने के लिए सरकार ज़रूरी क़दम उठा रही है। मुख्यमंत्री ने अफ़वाहों पर ध्यान न देने की अपील की। नवरात्रि को देखते हुए बड़े मंदिरों के साथ छोटे मंदिरों को भी बन्द किया जाएगा। शादियों में धाम का आयोजन बाद में कर लें। कांगड़ा में पहले ही लोक डाउन कर दिया है। आज से पूरे प्रदेश में लॉक डाउन होगा। आगामी आदेशो तक ये आदेश जारी रहेंगे।