छोटी काशी के लोग घरों में रहे बंद, मंडी में पसरा रहा सन्नाटा

  • 22 Mar 2020
  • Reporter: बीरबल शर्मा

विश्वभर के लिए खतरा बन चुके कोरोना वायरस के खात्मे के लिए छोटी काशी मंडी के लोगों ने खुद को घरों में ही कैद कर दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आहवान पर किए गए जनता कर्फ्यू को लेकर मंडी जिला के लोगों ने अपना पूरा समर्थन दिया। शनिवार रात को लोग अपने घरों में गए और उसके बाद अपने घरों में ही रहे। रविवार का सारा दिन लोगों ने अपने परिवार के साथ बिताया। जिले के सभी उपमंडलों के बाजार पूरी तरह से बंद रहे।

मंडी में 1984 में इंदिरा गांधी की हत्या के बाद भडक़े दंगों को देखते हुए लगाए गए कर्फ्यू में भी मंडी शहर इतना सूनसान नहीं रहा था। नेशनल हाईवे से लेकर शहर की सडक़ें पूरी तरह से सुनसान रही। वहीं दूसरी तरफ  हल्का पुलिस बल सडक़ों पर नजर आया जो यह जानने के लिए सडक़ों पर था कि जनता कर्फ्यू को सही ढंग से लागू करवाया जा सके। खुद एएसपी मंडी पुनीत रघु और एसडीएम सदर निवेदिता नेगी सडक़ों पर उतर कर जनता कर्फ्यू की स्थिति का जायजा लेते हुए नजर आए

 
वहीं, दूसरी तरफ सभी प्रकार की आपातकालीन सेवाएं जारी रही। मंडी के जोनल अस्पताल सहित अन्य दवाई की दुकानें दिन भर खुली रही। हालांकि दवाई की दुकानें काफी कम खुली थी लेकिन, जरूरत के अनुसार लोगों को दवाईयां मिलती रही। वहीं अस्पतालों में भी आपातकालीन सेवाओं को जारी रखा गया। दवाई विक्रेता कमल ने बताया कि अस्पताल में जो मरीज दाखिल हैं उन्हें दवाईयां उपलब्ध करवाई जा रही हैं और साथ ही अन्य लोगों को भी इसका लाभ दिया जा रहा है।  बस सेवाएं और टैक्सी सेवाएं भी पूरी तरह से बाधित रही। मंडी बस स्टैंड दिन भर सुनसान रहा। न तो सरकारी बसें चलाई गई और न ही निजी