विशेष सत्र की मांग करना BJP विधायकों को पड़ा महंगा, बिंदल ने जताई आपत्ति

  • 21 May 2020
  • Reporter: पी. चंद

कोरोना काल में भाजपा के 5 विधायकों को विपक्ष के साथ सत्र की मांग को लेकर विधानसभा अध्यक्ष के पास जाना महंगा पड़ गया है। भाजपा अध्यक्ष ने भाजपा विधायकों की इस हरकत पर कड़ी आपत्ति ज़ाहिर की है। मामले के तूल पकड़ते ही बयान भी जारी किया गया है। भाजपा विधायकों ने एक संयुक्त बयान में कहा कि विधानसभा अध्यक्ष को भाजपा विधायकों द्वारा जो पत्र दिया गया है वो किसी भी प्रकार से यह भावना नहीं रखता है कि विधानसभा का विशिष्ट सत्र बुलाया जाए।

भाजपा विधायकों ने बयान में कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के नेतृत्व में चल रही भाजपा सरकार कोरोना से की जा रही लड़ाई को बखूबी लड़ रही है। हिमाचल सरकार और भारतीय जनता पार्टी ने हिमाचल प्रदेश के जनमानस की लगातार सेवा की है। नरेन्द्र भाई मोदी के नेतृत्व में देश और जयराम ठाकुर के नेतृत्व में प्रदेश सरकार बेहतरीन काम कर रही है। लिहाज़ा पहले विधायकों ने बकायदा इसकी मांग की थी और बयान भी दिया था।

उधर प्रदेश अध्यक्ष राजीव बिन्दल ने जारी बयान में कहा कि विधान सभा का विशिष्टि सत्र बुलाने के लिए भारतीय जनता पार्टी के विधायकों द्वारा दिया गया पत्र अनुचित है। प्रदेश भाजपा इस गतिविधि का कड़ा नोटिस लेती है। कोरोना संकट में विधान सभा सत्र को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित किया गया था और अभी संकट बरकरार है।

प्रदेश सरकार मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के नेतृत्व में हिमाचल को कोरोना से बचाने के लिए जीतोड़ कोशिश कर रही है। ऐसे में भाजपा का स्पष्ट मत है कि जब सभी प्रकार की बड़ी बैठकें बंद हैं तो विधानसभा सत्र को आहूत करना अनुसूचित होगा।