कोविड-19 जैसी संकट की घड़ी में भी भाजपा सरकार में हो रहे घोटाले: कांग्रेस

  • 22 May 2020
  • Reporter: पी. चंद

जब पूरी मानवता संकट में है ऐसे वक्त में भाजपा सरकार के स्वास्थ्य विभाग के निदेशक रिश्वत के मामले में विजिलेंस द्वारा गिरफ्तार हैं। मुख्यमंत्री इसकी जांच का दायरा बढ़ाएं इन घोटालों के पीछे जो भी नेता है उसके ख़िलाफ़ भी कार्रवाई होनी चाहिए। भाजपा का नकाब उतर रहा है। ये बात कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप राठ़ौर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कही।

राठ़ौर ने कहा कि कोविड टेस्ट के लिए रेपिड टेस्ट किट 175% अधिक कीमतों पर आईसीएमआर ने खरीदा जो कि एक बड़ा घोटाला है। प्रदेश में भी कोरोना आपदा के समय बिलासपुर में घटिया पीपीई किट का मामला सामने आया हैय़ उसके बाद सचिवालय में सेनेटाइजर खरीद का मामला और अब स्वास्थ्य विभाग के निदेशक का 5 लाख रुपये का लेनदेन का मामला सामने आया है जिसकी गहनता से जांच होनी चाहिए।

अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस ने 8 सदस्यीय कमेटी गठित की है इस कमेटी ने अपनी रिपोर्ट दे दी है। जिसको समायोजित किया जा रहा। जल्द ही इस रिपोर्ट को मुख्यमंत्री को सौंपा जाएगा। सरकार को कोविड 19 की विस्तृत चर्चा के लिए विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया जाना चाहिए। प्रदेश की भाजपा सरकार ने कोरोना संकट में कर्मचारियों की तनख्वाह में कटौती की साथ ही एपीएल परिवार को राशन में मिलने वाली सब्सिडी को खत्म किया है जो प्रदेश के लोगों के हित में नहीं है।

अब सरकार बिजली में भी सेस और बसों के किराए में बढ़ौतरी करने जा रही जो लोगों पर कोरोना संकट में बोझ डालेगा। कांग्रेस पार्टी इसका विरोध करेगी। संस्थागत क्वारन्टीन केंद्रों में लोगों को पर्याप्त रहने, खाने ,पीने के पानी और शौचालय की व्यवस्था नहीं है।