पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ कांग्रेस ने खोला मोर्चा, DC के जरिए राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन

  • 29 Jun 2020
  • Reporter: पी. चंद, शिमला

देश में पेट्रोल-डीजल के दामों में हो रही लगातार वृद्धि को लेकर कांग्रेस ने मोर्चा खोल दिया है। सोमवार को कांग्रेस के सभी विंग ने डीसी ऑफिस के बाहर प्रदर्शन किया और डीसी के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञाप सौंपा। इस मौके पर एक तरफ जहां महिला कांग्रेस कमेटी ने केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की वहीं, जिला कांग्रेस कमेटी और कांग्रेस सेवा दल ने डीसी शिमला के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपकर केंद्र सरकार से पेट्रोल-डीजल के दामों को कम करने की मांग की।

महिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष जैनब चंदेल और जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष यशवंत छाजटा ने कहा कि सरकार कोरोना संकट के दौर में लगातार पैट्रोल डीजल के दामों में लगातार वृद्धि कर रही है जिससे महंगाई होना स्वभाविक है। उन्होंने कहा कि मंहगाई होने से इसका सीधा असर आम जनता की जेब पर पड़ेगा। एक तरफ कोरोना वायरस से लोगों का व्यवसाय और रोजगार चले गया हैं वहीं, दूसरी तरफ सरकार डीजल और पैट्रोल के दामों में लगातार वृद्धि कर रही है।

उन्होंने कहा कि अंतराष्ट्रीय स्तर पर पैट्रोल-डीजल के दाम 23 रुपये प्रति बैरल है जिसमें सभी तरह के टैक्स जोड़कर 34 रुपए तक होते हैं लेकिन केंद्र सरकार ने पैट्रोल और डीजल के दामों में 70 प्रतिशत टैक्स लगाकर इनके दामों को आसमान तक पहुंचा दिया है जिसका सीधा असर जनता की जेब पर पड़ रहा है। ऐसे में उन्होंने आज देशभर में सभी जिला मुख्यालयों पर धरना प्रदर्शन कर डीसी के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपा है और सरकार से पेट्रोल और डीजल के दामों को कम करने की मांग की है।

उन्होंने केंद्र सरकार पर चुटकी लेते हुए कहा कि भाजपा के नेता ठीक कहते हैं कि कांग्रेस ने 70 सालों से कुछ नहीं किया जिसका जीता जागता उदाहरण आज देश की जनता देख रही है। भाजपा के राज में पैट्रोल से लेकर मंहगाई और खाने पीने चीजें महंगी हो गई हैं जो देश में पहले कभी नहीं हुआ। कांग्रेस ने केंद्र सरकार से पेट्रोल, डीजल और मंहगाई को कम करने की मांग की है ताकि जनता को राहत मिल सके।