जानिए गुप्त नवरात्रों का क्या महत्व है, क्यों गुप्त नवरात्रि को कहा जाता है गुप्त

  • 28 Jun 2020
  • Reporter: सुरेन्द्र जंवाल, बिलासपुर

हिमाचल प्रदेश के विश्वविख्यात शक्ति पीठ नैना देवी में आज गुप्त नवरात्रों की अष्टमी पूजन किया जा रहा है। गुप्त नवरात्रों को गुप्त इसलिए भी कहा जाता है क्योंकि इन नवरात्रों के दौरान ऋषि मुनि प्राचीन काल में अपनी सिद्धियां प्राप्त करने के लिए और तंत्र पूजा के लिए यह नवरात्रों को गुप्त रखा हुआ था जिस कारण नवरात्रों को गुप्त नवरात्रे भी कहा जाता है। लेकिन धीरे-धीरे अब इनका प्रचलन बढ़ता गया और अब आम जनता भी इन नवरात्रों  को बड़ी धूमधाम से मनाती है

हालांकि साल भर में चार नवरात्रे मनाए जाते हैं जिनमें दो नवरात्रे चैत्र मास के और अश्विन मास के मनाए जाते हैं। जबकि दो गुप्त नवरात्रे जिनमें आषाढ़ मास शुक्ल पक्ष के गुप्त नवरात्रे और माघ मास शुक्ल पक्ष के गुप्त नवरात्रे  मनाए जाते हैं। कहा जाता है कि गुप्त नवरात्रों  के दौरान माता जी की पूजा करने का विशेष महत्व रहता है। जो भी श्रद्धालु पूजा पाठ व्रत हवन यज्ञ  करते हैं और कन्या पूजन करते हैं। माता रानी आपकी सभी मनोकामना पूर्ण करती है।