कांगड़ा: पौंग झील में मार्च तक ड्रोन की निगरानी में रहेंगे विदेशी परिंदे, सोमवार को 15 और मिले मृत

  • 19 Jan 2021
  • Reporter: मृत्युंजय पुरी

पौंग झील में बर्ज फ्लू से विदेशी परिंदों की मौत का सिलसिला लगातार जारी है। सोमवार को क्षेत्र में 15 और विदेश परिंदे मृत पाए गए हैं। विभाग के अनुसार ये रविवार रात को मरे होंगे। इसके साथ ही झील में बर्ड फ्लू से मरने वाले विदेशी परिदों की संख्या बढ़कर 4 हजार 936 हो गई है। इसी को देखते हुए अब झील में विदेशी परिंदों पर ड्रोन से निगरानी रखी जा रही है। हालांकि झील में अब परिंदों की मृत्यु दर में गिरावट आई है। लेकिन वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि अगर मौतें शून्य तक भी पहुंचेगी, तब भी मार्च तक निगरानी रहेगी। 

बता दें कि मार्च महीने में ये विदेश परिंदे यहां से पलायन करना शुरू हो जाते हैं। इस बार बर्ड फ्लू के कारण हजारों पक्षी वापस नहीं जा पाएंगे। उधर, बर्ड फ्लू की रोकथाम के लिए उठाए गए विभागीय कदमों की वन मंत्री राकेश पठानिया ने समीक्षा की। उन्होंने मौतों में आ रही गिरावट को सुखद संकेत माना। वहीं, पीसीसीएफ वन्य प्राणी विंग अर्चना शर्मा का कहना है विदेशी पक्षियों पर मार्च तक हर हाल में निगरानी रहेगी। अब निगरानी ड्रोन से भी की जा रही है। जो भी मृत पक्षी पाया जा रहा है, वह एक रात पहले मरा होगा। वन्य प्राणी विंग पूरी तरह से सतर्कता बरत रहा है

हिमाचल प्रदेश में अन्य राज्यों से अब एक सप्ताह और पोल्ट्री उत्पादों नहीं आ सकेंगे। पशुपालन मंत्री वीरेंद्र कंवर के अनुसार इन उत्पादों के परिवहन पर रोक को फिर बढ़ाया है। प्रदेश में विदेश परिंदों की मृत्यु दर में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। वहीं, सोलन में मृत मुर्गियों के सैंपल में बर्ड फ्लू के लक्षण पाए गए हैं। पशु रोग संस्थान की भोपाल प्रयोगशाला की जांच रिपोर्ट में इसकी पुष्टि हुई है। अधिकारियो को आशंका थी कि इन्हें हरियाणा से वाहनों में लाकर सोलन जिले में फैंका गया था।