स्वास्थ्य सेवाओं के हालात पर राजनीति गरमाई, केन्द्रीय वित राज्य मंत्री अनुराग ने माना प्रदेश में बदहाल हैं स्वास्थ्य सुविधाएं

  • 02 Mar 2021
  • Reporter: जसबीर कुमार, हमीरपुर

राधाकृष्णन मेडिकल कॉलेज हमीरपुर के रेडियोलॉजी विभाग में में आए दिन अल्ट्रासाउंड और सीटी स्कैन मशीनें खराब होने से मरीजों को परेशानी हो रही है। मेडिकल कॉलेज हमीरपुर में एक अल्ट्रासाउंड मशीन करीब दो माह से खराब पड़ी है। वहीं, एक्सरे मशीन भी पुरानी होने के कारण आए माह खराब हो जाती है। इस कारण मरीजों को अल्ट्रासाउंड और एक्सरे के लिए परेशानी झेलनी पड़ रही है। हालांकि, मेडिकल कॉलेज की सीटी स्कैन मशीन भी करीब तीन माह से खराब है, लेकिन इसे ठीक करने से इंजीनियर ने मना कर दिया है। पुरानी मशीन होने के चलते यह मरम्मत करने की हालत में नहीं है। ऐसे में नई मशीन खरीदना ही मुनासिब होगा। सीटी स्कैन मशीन के लिए अभी मेडिकल कॉलेज प्रबंधन आगामी प्रक्रिया अमल में ला रहा है। जिससे आए दिन मरीजों को परेशानी हो रही है। अगर मेडिकल कॉलेज की माने तो इस बारे में उच्चधिकारियों को सूचित करने की बात कर इतिश्री की जा रही है जिससे जनता से खिलवाड हो रहा है।

हाल ही में हमीरपुर के दौरे पर आए केन्द्रीय वित राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने हमीरपुर और बिलासपुर में सीटी स्कैन मशीनों के खराब होने पर चिंता जाहिर की थी। उन्होंने माना है कि स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर लोगों को परेशानी हो रही है और लोग भी शिकायतें दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह चिंता का विषय है और इसलिए दिशा कमेटी की बैठक में भी मुद्दा उठाया गया था। प्रदेश सरकार को भी प्रस्ताव डालकर जल्द समस्या को हल करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि हमीरपुर के अलावा बिलासपुर में भी स्वास्थ्य सुविधाओं का यही हाल है जिसे जल्द प्रदेश सरकार को दूर करना चाहिए।

वहीं, स्वास्थ्य सेवाओं के मुद्दे पर घेरते हुए कांग्रेस सोशल मीडिया चेयरमैन अभिषेक राणा ने अनुराग ठाकुर के बयान पर सहमति जताते हुए कहा कि जब केंद्रीय वित मंत्री मान रहे हैं तो आम जनता किस तरह से स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए तरस रही है इसका पता लग रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार की जन हित से जुडे मुद्दे पर चर्चा न करके इनसे भागने का प्रयास कर रही है। इसके अलावा स्थानीय लोगों का कहना है कि पुरानी अल्ट्रासाउंड मशीन और अन्य मशीनों को भी समय पर ठीक किया जाए ताकि, जब तक नई मशीनरी स्थापित नहीं की जाती तब तक लोगों को पुरानी मशीनों का ही लाभ मिल सके। खराब मशीनों को सही ढंग से ठीक नहीं किया जा रहा है जिससे परेशानी हो रही है। सरकार को मशीनों को ठीक करवा कर मरीजों को सहूलियत प्रदान करनी चाहिए।

लोगों ने सरकार से पुरानी मशीनों को जल्द ठीक करवाने की मांग करते हुए कहा कि पुरानी मशीनों को जल्द बदलने कर काम करना चाहिए। इस संबंध में एमएस डॉ. आरके अग्निहोत्री ने कहा कि रेडियोलॉजी विभाग में मशीनों को ठीक करवाने के लिए कंपनी को सूचित कर दिया है लेकिन कंपनी ने अब ठीक करने से मना कर दिया है जिसकी लिखित रिपोर्ट उच्च अधिकारियों को कर दी गई है।