हिमाचल में कोरोना कहर के आंकड़ों ने देश की भी छोड़ा पीछे, मौत और पॉजिटिव रेट देश के मुक़ाबले ज़्यादा

  • 06 May 2021
  • Reporter: पी. चंद, शिमला

हिमाचल में कोरोना के बढ़ते मामलों औऱ लगातार बढ़ती मौतों के आंकड़ों ने देश को पीछे छोड़ दिया है। भारत में मामलों की प्रति लाख दर 1499.5 के मुकाबले हिमाचल में 1530.3 मामले आ रहे है। भारत की मृत्यु दर 1.1 है जबकि हिमाचल की मृत्यु दर 1.5 है इसमें भी पहाड़ी प्रदेश बहुत आगे है। उल्टा हिमाचल का रिकवरी रेट देश के मुक़ाबले कम है। भारत का रिकवरी रेट 81.9 है जबकि हिमाचल के रिकवरी रेट 78.1 है। ये देश ही नहीं दुनिया से भी कम है।

पहाड़ी प्रदेश में अभी तक 1679 लोगों की मौत कोरोना से हो चुकी है। इनमें महिलाओं के मुक़ाबले पुरुषों का आंकड़ा ज्यादा है। हिमाचल में 64.8 फ़ीसदी की पुरुष मृत्यु दर है जबकि महिला मृत्युदर 35.2 फ़ीसदी है। मृत्यु दर गंभीर बीमारियों से मरने वालों की ज्यादा है। यानी कि 65.5 फ़ीसदी गंभीर बीमारियों वाले लोग कोरोना के ज्यादा शिकार हो रहे हैं। इसमें भी मधुमेह के रोगियों को कोरोना मौत के मुंह मे ज्यादा धकेल रहा है। दूसरे नंबर पर उच्च रक्तचाप वाले लोग कोरोना की चपेट में आने के बाद मृत्यु का ग्रास बन रहे हैं।

उधर हिमाचल में कोरोना के बढ़ते मामलों का अंदाज़ा आप इस बात से लगा सकते हैं कि सरकार में आला अफसर कोरोना पॉजिटिव है। आरडी धीमान, दिवेश कुमार जैसे आला अफसर भी कोरोना पॉजिटिव हैं, जबकि कई अधिकारी क्वारंटीन पर चले रहे हैं। डीजीपी हिमाचल आइसोलशन के बाद वापस ड्यूटी पर लौट आए हैं। उद्योग मंत्री विक्रम ठाकुर भी कोरोना से जंग लड़ रहे हैं। जबकि समाजिक न्याय अधिकारिता मंत्री सरवीण चौधरी भी कोरोना पॉजिटिव हैं।