Follow Us:

‘स्टेट हुड को मारो ठुड’ का नारा देने वाले कर रहे हिमाचल निर्माता कांग्रेस नेताओं का अपमान: राठौर

पी. चंद शिमला |

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप राठौर ने प्रदेश सरकार द्वारा स्वर्ण जयंती समारोह पर कांग्रेस के दिग्गज नेताओं की अनदेखी के आरोप लगाए हैं। राठौर ने कहा कि हिमाचल अपनी स्थापना के 50 वर्ष पूरे करने जा रहा है। सत्ता में बैठे लोग हिमाचल बनाने का विरोध करते रहे और हिमाचल को पंजाब में विलय के पक्षधर थे। इन्होंने नारा दिया "स्टेट हुड को मारो ठुड"। आज ये लोग हिमाचल की 50 स्वर्ण जयंती मना रहे हैं रिज मैदान में समारोह हो रहा है। उसका कांग्रेस स्वागत करती है। लेकिन सरकार ने जो होर्डिंग लगाई है। उनमें कंही पर कांग्रेस के उन नेताओं का जिक्र तक नहीं जिन्होंने हिमाचल को बनाया। 

राठौर ने कहा की देश की प्रथम महिला प्रधानमंत्री स्व इंदिरा गांधी ने हिमाचल को पूर्ण राज्य का दर्जा दिया। तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ. परमार का इसमें बहुत बड़ा योगदान रहा। लेकिन होर्डिंग में सिर्फ़ अमित शाह और जेपी नड्डा का नाम है। मुख्यमंत्री बताएं इनका हिमाचल के लिए क्या योगदान रहा है। रिज मैदान पर इंदिरा गांधी और डॉ परमार की प्रतिमाओं को ढक दिया गया है। कांग्रेस अपने नेताओं का अपमान नहीं सहेगी। सरकार नेताओं के अपमान की जगह सम्मान दें।

हिमाचल में बेरोज़गारी में नंबर वन पर, भ्रष्टाचार फैला हुआ है, कर्ज़े पर कर्जे लिए जा रहे हैं। फिर जश्न किस चीज़ का मनाया जा रहा है। हिमाचल को कांग्रेस पार्टी ने विकास के पथ पर आगे बढ़ाया। कांग्रेस पार्टी 25 जनवरी को रिज मैदान पर अपने नेताओं की प्रतिमा तक जाएंगे और उन सभी विभूतियों को याद करेंगे जिन्होंने हिमाचल को बनाने में अपना योगदान दिया। मुख्यमंत्री मोदी और अमित शाह से डरते हैं। इसलिए आज तक हिमाचल की कोई मदद नहीं की है। अब अमित शाह 25 को आ रहे हैं। वह हिमाचल के लिए किसी बड़े पैकेज का ऐलान करके जाएं।

राठौर ने कहा कि रिपेयर हो रहे ऐतिहासिक रिज मैदान पर समारोह कर रहे हैं उससे टैंक के साथ शिमला की जनता को ख़तरा है। रिज से सामियाना हटा दें ताकि जनता की सुरक्षा से खिलबाड़ न हो।

वहीं, पंचायती राज चुनाव को लेकर राठौर ने कहा कि पंचायती राज चुनावों में कांग्रेस ने अपना परचम लहराया है। बड़ी संख्या में कांग्रेस के प्रतिनिधि जीत कर आए है। जिला परिषद व पंचायत समिति में कांग्रेस के लोग जीत कर आये है। भाजपा के नेता बड़े बड़े दावे कर रहे है। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष झूठे आंकड़े पेश कर रहे है। जबकि उनकी पंचायत से लेकर जिला परिषद तक उनके उम्मीदवार हारे हैं। मुख्यमंत्री और सांसद रामस्वरूप के घर में भाजपा की हार हुई है।