थोड़ी देर में संघ को संबोधित करेंगे प्रणब मुखर्जी, नागपुर पर टिकीं सभी दलों की नज़रें

  • 07 Jun 2018
  • Reporter: समाचार फर्स्ट

'राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ' के कार्यक्रम में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के शिरकत करने पर राजनीतिक गलियारों में हड़कंप मचा हुआ है। तमाम कयासों के बीच नागपुर पहुंचे प्रणब मुखर्जी वीरवार शाम संघ को संबोधित करेंगे। हालांकि, इस बीच प्रणब दा को कांग्रेसी नेताओं और तमाम दूसरी गैर-राजनीतिक संस्थाओं की तरफ से आलोचना और नसीहतें भी खूब मिल रही हैं।

कांग्रेस की परंपरा में रचे बसे दिग्गज नेता प्रणब मुखर्जी के इस कदम पर सियासी हलचल तेज हो गई है। कांग्रेस के तमाम नेता तो छोड़िए प्रणब दा की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी ने भी अपने पिता को नसीहत दे डाली है। शर्मिष्ठा ने कहा कि उनके पिता ने भाजपा और संघ को झूठी कहानियां गढ़ने का मौका दिया है। उन्‍होंने कहा कि उनका भाषण तो भुला दिया जाएगा, लेकिन तस्वीरें संभाल कर रखी जाएंगी।

हालांकि, कांग्रेस आलाकमान ने इस पूरे मामले में यह कहते हुए किनारा कर लिया है। उनका कहना है कि यह प्रणब दा का निजी मामला है और पार्टी का इससे काई लेना देना नहीं है। लेकिन आलाकमान के इस टिप्‍पणी के बाद भी कांग्रेसियों ने प्रणब मुखर्जी के दौरे का  विरोध करना नहीं छोड़ा है। वहीं कभी इंदिरा गांधी के बेहद करीबी रहे सीके जाफर ने भी  प्रणब मुखर्जी के आरएसएस के कार्यक्रम में शामिल होने को लेकर अपना विरोध प्रकट किया है।

गौरतलब है कि पूर्व राष्ट्रपति प्रबण मुखर्जी कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे हैं। उन्होंने इंदिरा गांधी कार्यकाल में भी कई महत्वपूर्ण पदों पर अपनी सेवाएं दीं। इसके अलावा व्यक्तिगत तौर पर वह आरएसएस के बहुत बड़े विरोधी रहे हैं।