मंडी मेडिकल कालेज में भर्ती 4 कोरोना संदिग्धों की रिपोर्ट नेगेटिव, जिला में 12 रूपये में मिलेगा मास्क

  • 21 Mar 2020
  • Reporter: बीरबल शर्मा

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच एक राहत भरी खबर आई है। नेरचौक अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में रखे 6 लोगों में से 4 की कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर भेजे सैंपल की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। उनके सैंपल जांच के लिए टांडा अस्पताल भेजे गए थे। नेरचौक अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ देवेंद्र शर्मा ने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा कि अस्पताल ने जिन 4 लोगों के सैंपल टांडा भेजे थे उनकी प्राथमिक रिपोर्ट नेगेटिव आई है। हालांकि अंतिम पुष्टि के लिए सैंपल पुणे भेजे गए हैं। इसके अलावा 2 लोगों के सैंपल शनिवार को जांच के लिए टांडा अस्पताल भेजे गए हैं।

उन्होंने कहा कि अस्पताल में जो 6 लोग आइसोलेशन वार्ड में रखे गए हैंए उन्हें सर्दी, जुकाम के लक्षण हैं। ये सभी हाल ही में अलग अलग देशों से भारत लौटे हैं। इसलिए सरकार के निर्देशों के अनुसार एहतियातन इनको आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है।

वहीं, उपायुक्त ऋग्वेद ठाकुर ने कहा कि अभी तक मंडी में कोरोना वायरस का कोई मामला नहीं है। जिले में विदेशों से लौटे लोगों की निगरानी रखी जा रही है। जिन लोगों में सर्दी जुकाम के लक्षण दिख रहे हैंए ऐसे 6 लोग हैं। इनकी हाल में विदेश यात्रा की हिस्ट्री है। उन्हें नेरचौक अस्पताल में रखा जा रहा है। विदेशों से लौटे अन्य लोगों को होम क्वांरटाइन में रखा है। इनमें से कोई मामला कोरोना वायरस के सक्रमण का नहीं मिला है।

मंडी में अब 12 रुपए में मिलेगा मास्क

मंडी जिला प्रशासन ने कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे के बीच जिले में थ्री लेयर मास्क की कमी को दूर करने का पक्का इंतजाम कर लिया है। जिले में लोगों की मांग को देखते हुए स्वयं सहायता समूहों की मदद से मास्क तैयार करवाए जा रहे हैं । इन मास्क को बनाने में वही सामग्री इस्तेमाल की जा रही है जो मेडिकल मास्क के लिए उपयोग में लाई जाती है। एक मास्क की कीमत 12 रुपए होगी।

अतिरिक्त उपायुक्त आशुतोष गर्ग ने इस बारे जानकारी देते हुए बताया  कि मंडी में स्वयं सहायता समूहों ने शनिवार से मास्क बनाने का काम शुरू कर दिया है। इसके लिए उन्हें खास प्रशिक्षण दिया गया है। अभी प्रशासन ने 5 से 6 हजार मास्क बनाने की सामग्री मंगवाई है। जरूरत के अनुसार जल्द ही और सामग्री मंगवाई जाएगी। पहले ये मास्क अस्पतालों में व कोरोना के लक्षणों वाले लोगों व उनकी देखभाल में लगे लोगों को मुहैया करवाए जाएंगे।

आशुतोष गर्ग ने कहा कि जो लोग स्वस्थ हैं उनको मास्क पहनने की जरूरत नहीं है। यदि किसी व्यक्ति को खांसीए बुखार और सांस लेने में तकलीफ के लक्षण हों तो उसे थ्री लेयर मास्क का प्रयोग करना चाहिए जोकि इन्फैक्शन को फैलने से रोकने में सहायक है। उन्हें तुरंत डॉक्टरी सलाह लेनी चाहिए। इसके अलावा किसी कोरोना वायरस संदिग्ध व्यक्ति की देखभाल करने वाले लोगों को भी मास्क पहनना चाहिए।