राज्य में सरकारी क्षेत्र में 8 आरटी-पीसीआर और 25 ट्रूनॉट लैब में हो रहे कोरोना के परीक्षण

  • 08 May 2021
  • Reporter: पी. चंद

कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में कोरोना टेस्ट एक अभिन्न अंग है। कोरोना महामारी की जांच के लिए विभिन्न प्रकार के टेस्ट या परीक्षण किए जा रहे है, जिसमें आरटी-पीसीआर, रैपिड एंटीजन परीक्षण, ट्रूनॉट, सीबीनॉट व एंटीबॉडी टेस्ट आदि शामिल है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मिशन निदेशक डॉ. निपुण जिंदल ने कहा कि राज्य सरकार कोरोना टेस्ट सुविधा बढ़ाने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है और राज्य सरकार द्वारा सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में 8 आरटी-पीसीआर व 25 ट्रूनॉट लैब स्थापति की गई है, इसके अतिरिक्त राज्य के सभी बड़े स्वास्थ्य संस्थानों में रैपिड एंटीजन टेस्ट किए जा रहे है।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने निजी क्षेत्र में भी ट्रूनॉट टेस्ट सुविधा उपलब्ध करवाने की अनुमति प्रदान की है। राज्य सरकार द्वारा दो अस्पतालों को प्रदान की गई अनुमति में एक कांगड़ा और एक सिरमौर में है। निजी क्षेत्र के लिए सरकार द्वारा दिसंबर 2020 में टेस्ट की शुल्क दरें सभी प्रकार के करों सहित प्रति टेस्ट 2 हजार रुपये निधार्रित की गई है और रैपिड एंटीजन टेस्ट के लिए शुल्क प्रति टेस्ट 300 रुपये निधारित किया गया है। ऐसी सभी प्रयोगशालाओं व अस्पतालों को निर्धारित शर्तो के अनुसार संबंधित मुख्य चिकित्सा अधिकारी से लॉग-इन-आईडी लेने की आवश्यकता होती है। उन्होंने कहा कि निजी क्षेत्र में अब तक 20 लैबों व अस्पतालों में इस टेस्ट सुविधा को शुरू किया गया है जहां पर ट्रूनॉट व रैपिड एंटीजन टेस्ट के माध्यम से 1309 व 23668 टेस्ट किए जा चुके है। उन्होंने ने निजी लैब संचालकों व अस्पतालों से राज्य सरकार द्वारा निर्धारित शर्तो व नियमों के अनुसार रैपिड एंटीजन टेस्ट शुरू करने का भी आग्रह किया है। 

कोरोना महामारी की इस दूसरी लहर के दौरान कोरोना टेस्ट या परीक्षण के बारे में आइसीएमआर की ओर से दिशा-निर्देश जारी किए हैं। उन्होंने कहा कि प्रयोगशाला कर्मियों के कोरोना संक्रमित हो जाने के कारण प्रयोगशालाओं को निर्धारित परीक्षण लक्ष्य को पूरा करने के लिए कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है, इसलिए आरटी-पीसीआर परीक्षण करने की सलाह दी गई है।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मिशन निदेशक ने कहा कि प्रदेश में अब तक लगभग 16 लाख कोरोना टेस्ट किए गए हैं। सैंपलों की भारी बढ़ौतरी के कारण प्रयोगशालाओं को भी अपेक्षित टेस्ट लक्ष्यों को पूरा करने के लिए चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि जो सैंपल रैपिड एंटीजन टेस्ट में पॉजीटिव पाए गए है उन्हें आरटी-पीसीआर के माध्यम से दोबारा नहीं करने के निर्देश दिए गए है। इसके अतिरिक्त जो व्यक्ति कोरोना महामारी से ठीक हो गए है उनके प्रोटोकॉल के अनुसार दोबारा टेस्ट करने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार रेपिड एंटीजन टेस्टिंग की सुविधा और उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए निरन्तर प्रयासरत है। सरकार ने टेस्टिंग सुनिश्चित करने के लिए शहरी क्षेत्रों में वॉक इन कियोस्क स्थापित करने के लिए पहले ही दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं। अब स्वास्थ्य विभाग की ओर से शहरों, कस्बों, गांवों, महाविद्यालयों, विद्यालयों, सामुदायिक केन्द्रों और खाली स्थानों में समर्पित रैपिड एंटीजन टेस्ट बूथ स्थापित किए जा रहे है। जिस संबंध में निर्देश जारी कर दिए गए है। प्रदेश में जीवन धारा मोबाइल हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टरों के माध्यम से भी रैपिड एंटीजन टेस्ट की सुविधा शुरू की जाएगी।

उन्होंने कहा कि कि जिला प्रशासन को सार्वजनिक और निजी प्रयोगशालाओं में आरटी-पीसीआर टेस्टिंग सुविधा का समुचित उपयोग सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। रैपिड एंटीजन टेस्ट में पॉजीटिव आने वाले मरीजों को तुरन्त कोविड पॉजीटिव मरीज के रूप में होम आइसोलेट किया जाएगा और परीक्षण टेस्ट नेगेटिव आने वाले लोगों को आरटी-पीसीआर सुविधा से जोड़ा जाएगा। उन्होंने कहा कि उनसे आरटी-पीसीआर टेस्ट होने तथा रिपोर्ट मिलने तक होम आइसोलेशन व उपचार करने का आग्रह किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जिन लोगों में कफ और कफ रहित बुखार, सिर दर्द, गला खराब होना, शरीर में दर्द, सांस लेने में दिक्कत होना, स्वाद और सुगन्ध की शक्ति क्षीण होना, थकावट और डायरिया जैसे लक्षण पाए जाते है उन्हें भी कोरोना संदिग्ध माना जाएगा।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मिशन निदेशक डॉ. निपुण जिंदल ने अपनी टीम के सदस्यों के साथ आइजीएमसी शिमला में स्थित आरटी-पीसीआर प्रयोगशाला का दौरा कर कोरोना टेस्ट की लंबित हो रही रिपोर्ट के संबंध में जानकारी हासिल की। प्रयोगशाला की वर्तमान क्षमता को बढ़ाने, लैब के सुचारू संचालन के लिए पर्याप्त स्थान उपलब्ध करवाने का भी निर्णय लिया गया। उन्होंने कहा कि आइजीएमसी शिमला को एक और आरटी-पीसीआर मशीन और ऑटोमेटिड आरएनए एक्स्ट्रेकटर तथा डॉ. राजेन्द्र प्रसाद राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय टांडा को एक ऑटोमेटिड आरएनए एक्स्ट्रेक्टर प्रदान किए जाएंगे। राज्य सरकार ने कोरोना संबंधी जांच को बढ़ाने के लिए 6 मई, 2021 को आरटी-पीसीआर लैब के संचालन के लिए 29 अतिरिक्त श्रम शक्ति जुटाने को भी मंजूरी प्रदान की है। उन्होंने प्रयोगशाला प्रभारियों को भी निर्देश दिए कि टेस्ट रिपोर्ट तैयार होने के तुरन्त बाद संबंधित व्यक्ति को उसकी टेस्ट रिपोर्ट से संबंधित मैसेज भेजा जाए ताकि यदि कोई भी व्यक्ति पॉजीटिव पाया जाता है तो वह समय पर आइसोलेट हो सके और संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।