सुंदरनगर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने मनाया स्थापना दिवस

  • 08 Oct 2019
  • Reporter: सचिन शर्मा, मंडी

सुन्दर नगर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने मनाया स्थापना दिवस मनाया। इस मौके पर सुंदरनगर के जवाहर पार्क में संघ के सभी सदस्य उपस्थित रहे। जवाहर पार्क से लेकर भोजपुर होते हुए पूरे शहर की परिक्रमा करते हुए पथ संचलन किया गया। जिला संघ चालक के एल वर्मा ने अपने सम्बोधन में कहा कि आश्विन शुक्ल दशमीं पर 1925 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना डॉ. केशव राव बलिराम हेडगेवार ने की थी।

नागपुर के एक उपेक्षित से मैदान में 10-12 किशोर बालकों के साथ खेलकूद और व्यायाम करके डाक्टर साहब ने संघ प्रारम्भ किया। उस समय तक संघ का कोई नाम भी नहीं रखा गया था।

संघ का नाम ‘राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ’ काफी बाद में सन् 1928 में रखा गया था और तभी डाक्टर साहब को उनके सहयोगियों द्वारा संघ का पहला सरसंघचालक नियुक्त किया गया। मात्र 10-12 बालकों से प्रारम्भ हुआ संघ आज विशाल वटवृक्ष का रूप ले चुका है और बीबीसी द्वारा संसार का सबसे बड़ा स्वयंसेवी संगठन माना गया है।

इस समय भारत भर में 35 हजार से अधिक स्थानों पर संघ की दैनिक शाखायें और 10 हजार से अधिक स्थानों पर साप्ताहिक शाखाएं लगती हैं। संघ का मूल स्वरूप दैनिक शाखाओं का है, लेकिन साप्ताहिक शाखाएँ ऐसे लोगों के लिए चलायी जाती हैं, जो संघ से जुड़ना तो चाहते हैं, पर प्रतिदिन नहीं आ सकते। इसी प्रकार कहीं-कहीं मासिक एकत्रीकरण भी होते हैं।
 
संघ में आने वालों को स्वयंसेवक कहा जाता है। इसका अर्थ है- अपनी ही प्रेरणा से समाज की निःस्वार्थ सेवा करने वाला। संघ की कोई सदस्यता नहीं होती। जैसे दूसरे संगठनों में लोग वार्षिक चन्दा देकर पर्ची कटवाकर सदस्य बन जाते हैं, वैसा संघ में नहीं होता। शाखा में आना ही इसकी सदस्यता है। शाखायें सबके लिए खुली हुई हैं। जो भी व्यक्ति इस देश को प्यार करता है और यहां की संस्कृति और महापुरुषों का सम्मान करता है। वह संघ की शाखाओं में आ सकता है। संघ में सभी जातियों के हिन्दू और बहुत से मुसलमान-ईसाई भी आते हैं। लेकिन संघ में एक-दूसरे की जाति पूछना या बताना मना है।