कांगड़ा: लेंटाना और चीड़ की पत्तियों से मिलेगी निजात, ढलियारा में प्रदेश का पहला बायोमास प्लांट स्थापित

  • 13 Nov 2019
  • Reporter: मनोज धीमान

कांगड़ा में लेंटाना और चीड़ की पत्तियों की समस्या से निजात मिलेगी। इसके लिए प्रदेश का पहला बायो मास्क प्लांट ढलियारा में स्थापित किया गया है। देहरा के विधायक होशियार सिंह ने कहा कि बायो मास्क प्रोजेक्ट प्लांट लेंटाना ओर चिढ़ की पत्तियां के निवारण के एक प्लांट ढलियारा में लगा गया है। इसके लिए लेंटाना 100 रुपये क्विंटल खरीदा जाएगा, जिसे पाउडर बना कर ब्रिक्स के रूप में ढाल कर सीमेन्ट उद्योग में भेजा जाएगा। सरकार ने लेंटाना व चीड़ की पत्तियों की समस्या के निवारण के लिए 25 यूनिट को स्वीकृति प्रदान कर दी है।

होशियार सिंह ने कहा कि लेंटाना को हमारी संस्था खरीदेगी। उन्होंने बताया कि सरकार ने इस तरह की 25 यूनिट को मंजूरी दी है। 25 लाख में प्लांट लग सकता है सब्सिडी मिलेगी। उन्होंने कहा कि इसे व्हाइट कोल कहा जाता है और इसे जलाने पर इसका धुआं भी सफेद होता है।

उन्होंने बताया कि लेंटाना ने प्रदेश में 60 फीसदी भूमि को नष्ट कर दिया है। इस कार्य हेतू युवाओं को आगे लाया जाएगा, इसके लिए बकायदा फोन नंबर शेयर किए जाएंगे और जहां से भी लोग लेंटाना को ठिकाने लगाने का आग्रह करेंगे, वहां युवाओं का दल जाकर ब्रिकेटिंग मशीन से इस कार्य को अंजाम देगा। होशियार सिंह ने कहा कि पौंग बांध विस्थापितों के मुद्दे को राजस्थान सरकार ने ठंडे बस्ते में डाल दिया था, लेकिन उनके द्वारा मामला उठाने के चलते अब विस्थापितों को प्लांट आवंटन की प्रक्रिया राजस्थान सरकार ने शुरू कर दी है। उम्मीद है कि शीघ्र पौंग बांध विस्थापितों को न्याय मिलेगा।