महिला डॉक्टर से छेड़छाड़ मामलाः मंडी ज़िला के डॉक्टर दो घंटों की पेन डाउन स्ट्राइक पर

  • 17 Jun 2019
  • Reporter: समाचार फर्स्ट डेस्क

मंडी के अंतर्गत आने वाले सराज के थाची गांव में महिला डॉक्टर के साथ हुई छेड़छाड़ और मारपीट के मामले ने तूल पकड़ लिया है। अभी तक आरोपी की पहचान और गिरफ्तारी नहीं होने से खफा डाक्टर आज दो घंटों की पैन डाउन स्ट्राइक पर हैं। डॉक्टर की हड़ताल से मरीजों को परेशानी हो रही है। आज सुबह साढ़े 11 बजे तक डॉक्टर हड़ताल पर रहेंगे।

हिमाचल प्रदेश मेडिकल ऑफिसर एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. जीवानंद चौहान, मंडी जिला के अध्यक्ष डॉ. जितेंद्र रूड़की, महासचिव डॉ. विशाल जम्वाल और सह सचिव डॉ. रोशन ने कहा कि पुलिस अब तक आरोपी को नहीं पकड़ पाई है। जिस कारण ही स्ट्राईक का निर्णय लिया गया है। यदि जल्द आरोपी की पहचान कर उसे गिरफ्तार नहीं किया गया तो काले बिल्ले लगाकर स्ट्राइक की जाएगी।

एसपी मंडी गुरदेव शर्मा और डीएसपी पधर मदनकांत शर्मा ने सोमवार को दिन भर थाची में डेरा डाला और हालात का जायजा लिया। एसपी मंडी गुरदेव शर्मा ने बताया कि आरोपी की पहचान और उसे तलाशने के लिए टीमें इलाके में भेजी गई हैं, जल्द ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

यह है पूरा मामला

घटना शनिवार 15 जून की है। पीएचसी थाची में तैनात महिला डॉक्टर पूरे अस्पताल में अकेली मौजूद थी। उस वक्त एक शराबी युवक डॉक्टर के पास आया और पट्टी की मांग की। जैसे ही महिला डॉक्टर उसे पट्टी देने के लिए कमरे में गई तो युवक ने उसके साथ छेड़छाड़ शुरू कर दी। महिला डॉक्टर ने आरोपी को थप्पड़ मारे और युवक ने महिला डॉक्टर के साथ मारपीट करके वहां से फरार हो गया।

महिला डॉक्टर ने पुलिस को जो जानकारी दी है, उसके अनुसार आरोपी युवक 28 से 30 वर्ष का है और उसने नीले रंग की शर्ट पहन रखी थी और उसके चेहरे पर काले तिल का निशान है। अब पुलिस ऐसे शख्य की तलाश में है और पूरे इलाके को खंगाला जा रहा है। पीएचसी के पास वाले स्कूल में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज भी खंगाली गई है, लेकिन उसमें भी ऐसा कोई शख्स नजर नहीं आ रहा है। वहीं स्थानीय लोगों से भी इस बारे में पूछताछ की गई है, लेकिन पुलिस को कोई खास कामयाबी नहीं मिल पाई है।

इस मामले पर सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि इसकी शीघ्र जांच की जा रही है। क्योंकि यह मुख्यमंत्री के गृहक्षेत्र सराज का मामला है। सीएम का इलाका होने के कारण पुलिस पर मामले की शीघ्र जांच का अधिक दबाव है। वहीं सीएम ने भी जिला पुलिस से सारे मामले पर रिपोर्ट मांगी है।