चिंतपूर्णी: श्रावण अष्टमी मेले के सातवें दिन 40 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने किए मां के दर्शन

  • 07 Aug 2019
  • Reporter: रविंद्र ऊना

उत्तर भारत के प्रसिद्ध शक्तिपीठ छिन्न मस्तिका धाम चिंतपूर्णी में चल रहे श्रावण अष्टमी नवरात्र मेले के सातवें दिन एक बार फिर श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ा। बुधवार अष्टमी के दिन डबल लाईन नया बस अड्डा पार कर चुकी थी। अनुमान के मुताबिक बुधवार को 40 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने पावन पिंडी की पूजा अर्चना की। अष्टमी के दिन श्रद्धालुओं द्वारा झंडे चढ़ाने के लिए भी अलग रास्ते से लाइनों में भेजा जा रहा था। भीड़ अधिक होने के कारण श्रद्धालुओं को मंदिर तक पहुंचने के लिए कठिन परीक्षा से गुजरना पड़ रहा था। कई श्रद्धालु हथेली पर मां की जोत लेकर मंदिर तक जा रहे थे। मेले में डीसी संदीप कुमार के सख्त निर्देषों के कारण मेला क्षेत्र में सफाई व्यवस्था संतोषजनक है। हालांकि सफाई के लिए ठेकेदार व सफाई कर्मचारियों को काफी पसीना बहाना पड़ रहा है।

रिटायर्ड प्रिंसीपल सतपाल प्रभाकर ने आरोप लगाया कि भरवाई पार्किंग में मंदिर न्यास द्वारा बनाए शौचालय में तैनात सफाई कर्मचारियों द्वारा श्रद्धालुओं से शौच के दस रुपए लिए जा रहे हैं। जबकि शोचालय में फ्री सेवा दी जा रही है। मंगलवार शाम 6 बजे नारी से जौडबड़ व शीतला मंदिर व आसपास के इलाके में बिजली गुल हो गईं, रात भर लंगर संस्थाओं व श्रद्धालुओं को अंधेरे के कारण भारी दिक्कतों का सामना पड़ा।

वहीं, इस बारे में एसडीओ देव राज का कहना है कि बारिश व तूफान के कारण फाल्ट के चलते समस्या आई थी। मेला क्षेत्र शीतला मंदिर चिंतपूर्णी रोड पर मंगलवार शाम को हुई तेज बारिश से जल्लो दी बड़ के समीप सड़क पर पानी के बहाव से खतरा मंडरा रहा है, तेज बारिश से कई स्थानों पर सड़कें तालाबा का रुप धारण कर चुकी हैं, जिस कारण पैदल चलने वाले श्रद्धालुओं को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

मंदिर कार्यालय में मिली सूचना के मुताबिक बुधवार को तलवाड़ा के श्रद्धालु बलविंद्र सिंह की जेब कट गई, जिसमें 8 हजार रूपये चोरी हो गए, जिसकी शिकायत दर्ज करवाई गई है। मेला अधिकारी अरिंदम चौधरी ने कहा कि भीड़ अधिक है, लेकिन प्रशासन व पुलिस व्यवस्थाओं पर कड़ी निगरानी रखे हुए हैं। श्रद्धालुओं को दर्शन पर्ची के साथ मंदिर में प्रवेश की अनुमति दी जा रही है, वहीं श्रद्धालुओं को नारियल मंदिर की लिफ्ट के पास प्रसाद के रूप में दिया जा रहा है। उन्होंने कहा की लाइन व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए बैक डोर एंट्री पर निगरानी रखी जा रही है।