मॉनसून सत्र: तीखी नोंकझोंक और नारेबाज़ी के बाद प्रश्नकाल खत्म होने से पहले विपक्ष का वॉकआउट

  • 20 Aug 2019
  • Reporter: पी. चंद, शिमला

कांग्रेस की नारेबाजी के बीच ही 40 मिनट के बाद विधानसभा अध्यक्ष ने प्रश्नकाल शुरू कर दिया। पहला प्रश्न चिंतपूर्णी के भाजपा विधायक बलवीर सिंह ने कृषि मंत्री से पूछा। उन्होंने सवाल किया कि टाकराला में निर्माणाधीन अनाज मंडी के लिए ज़ायका के माध्यम से कुल कितनी राशि स्वीकृत की गई है। कृषि मंत्री स्पीति में फंसे हुए है उनकी अनुपस्थिति में  सुरेश भारद्वाज ने जबाब दिया और बताया कि टाकराला में जायका के माध्यम से कोई धनराशि स्वीकार नही की गई है।

दूसरा सवाल झंडूता के विधायक जीत राम कटवाल ने मुख्यमंत्री से पूछा कि क्या सरकार भाखड़ा बांध विस्थापितों के भूमि संबंधी मामलों की विसंगतियों को दूर करने के लिए फ़िर से बंदोबस्त करवाएगी। इस के लिए क्या सरकार ने जिला स्तर पर कमेटी बनाने का निर्णय लिया था।

जबाब में मुख्यमंत्री ने बताया कि ऐसा कोई प्रस्ताव सरकार के विचाराधीन नही है। लेकिन सरकार ने प्रभावित लोगों को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। सरकार प्रभावितों को बसाने के लिए कोई रास्ता निकलेगी व इसको लेकर  राजस्व विभाग की देखरेख में कमेटी गठित की जाएगी जो कि एक माह अपनी रिपोर्ट देगी।

कांग्रेस के सभी विधायक स्पीकर के सामने जमीन पर बैठकर नारेबाजी करने लगे। इसी के बीच बल्ह के भाजपा विधायक इन्द्र सिंह वन मंत्री से पूछा कि रिवालसर में बनने वाले बस अड्डे का निर्माण कब तक आरम्भ किया जाएगा।

जबाव में वन मंत्री गोविंद ठाकुर ने कहा कि रिवालसर बस अड्डे के लिए भूमि का चयन कर लिया गया है जिस पर 52 लाख ख़र्च होंगे। अभी भूमि स्थानांतरण का मामला चल रहा है जैसे ही ये पूरा होगा अड्डे का काम शुरू हो जाएगा।

करसोग के विधायक हीरा पाल ने पशुपालन मंत्री से करसोग में पशुपालन विभाग के पदों के बारे में जानकारी मांगी जबाब में मंत्री वीरेंद्र कंवर ने बताया कि करसोग में पशुपालन विभाग में 100 पद है जिनमें 20 खाली पड़े हुए है जिनको जल्द भरा जाएगा।

देहरा के विधायक होशियार सिंह ने मुख्यमंत्री से देहरा में लोक निर्माण विभाग में खाली पड़े पदों, विभाग की बिल्डिंग व मशीनरी के बारे में पूछा।

जबावमें मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने बताया कि 234 पद देहरा में लोक निर्माण विभाग के खाली पड़े है। साथ ही जो विभाग की इमारत का निर्माण है वह विचाराधीन है। साथ ही सड़कों के रख रखाव के लिए मशीनरी को भी सुनिश्चित की जाएगी।

इससे पहले की विधानसभा अध्यक्ष प्रश्नकाल के समाप्त होने की घोषणा करते विपक्ष ने नारेबाजी करते हुए सदन से वाकआउट कर दिया। विपक्ष ने न ही कोई सवाल न ही अपनी तरफ़ से लगाई नियम 62 की चर्चा में भाग लिया।