CM ने कारगिल विजय दिवस कार्यक्रम में वीडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से शहीद स्मारक का लोकार्पण किया

  • 26 Jul 2020
  • Reporter: समाचार फर्स्ट डेस्क

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कारगिल विजय दिवस के अवसर पर आज जिला मंडी में आयोजित कार्यक्रम में शिमला से वीडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से हिस्सा लिया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने मण्डी स्थित इन्दिरा मार्केट में 15 लाख रुपये की लागत से निर्मित शहीद स्मारक का लोकार्पण किया। यह शहीद स्मारक 1962, 1965, 1971 और 1999 में कारगिल शहीदों को समर्पित किया गया है। इस युद्ध स्मारक पर सभी शहीदों के नाम अंकित हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस शहीद स्मारक के चरण-2 का कार्य भी शुरू किया जाएगा
जयराम ठाकुर ने कारगिल विजय दिवस के अवसर पर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि यह दिन उन शहीदों के प्रति समर्पित है, जिन्होंने देश की रक्षा के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान दिया है। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की दृढ़ इच्छाशक्ति और मजबूत नेतृत्व में भारत के सैनिकों ने कारगिल में पाकिस्तान के नापाक मंसूबों का करारा जवाब दिया। 26 जुलाई का दिन हर वर्ष सम्पूर्ण देश में कारगिल विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल प्रदेश का इतिहास अपने सैनिकों के पराक्रम, वीरता, शौर्य और बलिदानों के लिए जाना जाता है। कारगिल संघर्ष में देश के वीरों ने अपने प्राणों का बलिदान दिया। ऑपरेशन विजय में हिमाचल के वीर जवानों ने अपना शौर्य प्रदर्शित किया और इसके दौरान प्रदेश के 52 बहादुर सैनिक शहीद हुए।

आज तक प्रदेश के 1096 वीर सपूतों को वीरता पुरस्कार प्राप्त हो चुके हैं। प्रदेश के 1246 वीर सपूतों ने अपनी मातृ भूमि की रक्षा के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान दिया है। स्वतंत्र भारत का पहला सर्वोच्च सैन्य सम्मान परमवीर चक्र प्राप्त करने वाले मेजर सोमनाथ शर्मा हिमाचल के ही थे। कारगिल युद्ध में हिमाचल प्रदेश के शहीद कैप्टन विक्रम बत्तरा को मरोणोपरान्त और राइफर मैन संजय कुमार को परमवीर चक्र प्राप्त हुआ।

जयराम ठाकुर ने कहा कि कारगिल युद्ध में 52 शहीद सैनिकों के परिजनों को पांच-पांच लाख की वित्तीय सहायता के अतिरिक्त 44 शहीदों के परिवारों में से एक-एक आश्रित को सरकारी रोजगार प्रदान किया गया है। इस युद्ध में अपंग हुए सैनिकों को वित्तीय सहायता भी प्रदान की गई है और नौ अपंग हुए सैनिकों को रोजगार उपलब्ध करवाया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने पूर्व सैनिकों की सेना में सेवा अवधि के आधार पर वेतन लाभ प्रदान किए हैं। सरकार द्वारा सेवानिवृत सैनिकों के बैकलॉग कोटे को भरने के लिए हर संभव प्रयास किए जाएंगे। पालमपुर स्थित सौरभ वन विहार का जीर्णोंद्धार किया जाएगा जिसके लिए पर्याप्त धन राशि उपलब्ध करवाई जाएगी। सैनिक कल्याण बोर्ड को सुदृढ़ बनाया जाएगा ताकि सेवा निवृत्त सैनिकों के कल्याण के लिए हर संभव प्रयास किए जाएं।