धर्मशाला नगर निगम चुनाव: BJP प्रदेश अध्यक्ष ने कार्यकर्ताओं में भरा जोश, वार्ड प्रभारियों की भी जानी राय

  • 04 Mar 2021
  • Reporter: मृत्युंजय पुरी

धर्मशाला नगर निगम चुनावों के मद्देनजर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सुरेश कश्यप ने गुरुवार को पार्टी के प्रभारियों और वार्ड के प्रमुखों के साथ बैठक की। बैठक में कांगड़ा जिला एवं धर्मशाला मंडल के सभी पदाधिकारी मौजूद रहे। पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि पार्टी द्वारा तय किए किए गए प्रत्याशियों की जीत सुनिश्चित करने के लिए वह तैयार रहें। उन्होंने वार्ड के प्रभारियों व वार्ड के प्रमुखों के साथ गहन विचार विमर्श करते हुए सभी से उनकी राय ली। इस बैठक में धर्मशाला नगर निगम के चुनाव लड़ने के इच्छुक पार्टी के कार्यकर्ताओं ने अपने अपने आवेदन पार्टी अध्यक्ष को सौंपे। 

सुरेश कश्यप ने पार्टी के कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि पार्टी जिसे भी मैदान में उतारे सभी कार्यकर्ता उसके साथ मिलकर काम करेंगे। सुरेश कश्यप ने कार्यकर्ताओं में जोश भरा और उनसे आह्वान किया कि आने वाले नगर निगम चुनावों के बाद धर्मशाला में पार्टी के मेयर और डिप्टी मेयर होंगे और उसके बाद 2022 में भी पार्टी यहां से विजय हासिल करेगी। सुरेश कश्यप ने कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि वे केंद्र व प्रदेश सरकार की नीतियों को आम जनमानस तक पहुंचाएं ।  

इससे पहले बीजेपी महामंत्री व कांगड़ा चंबा संसदीय क्षेत्र के प्रभारी त्रिलोक कपूर ने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के धर्मशाला आगमन पर और कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करने के लिए उनका धन्यवाद किया। त्रिलोक कपूर ने अपने संबोधन में कार्यकर्ताओं को एकजुट होकर आने वाले धर्मशाला नगर निगम के चुनावों में पूरी ताकत से पार्टी के प्रत्याशियों की जीत सुनिश्चित करने के लिए जी जान से जुड़ने के लिए आग्रह किया।

त्रिलोक कपूर ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी को पंचायत व जिला परिषद के चुनावों में बहुत सफलता मिली है जिसका श्रेय सभी कार्यकर्ताओं को जाता है। उन्होंने विश्वास जताया कि जिस क्रम में पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पंचायती राज संस्थाओं के चुनावों में भारी विजय दिलाई है उसी क्रम में आगामी धर्मशाला नगर निगम के चुनावों में भी पार्टी 17 वार्डों में अपना परचम लहराएगी। उन्होंने कहा कि पार्टी आगामी नगर निगम के चुनावों को बड़ी गंभीरता से ले रही है क्योंकि पिछले चुनावों में हुई कुछ भूल व त्रुटियों की अब पार्टी पुनरावृत्ति नहीं करना चाहती है।